कोरोना काल में बेरोजगार हुए औद्योगिक कामगारों के लिए सरकार ने अच्छी खबर दी है, सरकार अब कर्मचारियों के लिए राहत योजना लेकर आई है। योजना के तहत कोरोना के संकट के चलते नौकरी गंवाने वाले करीब 40 लाख औद्योगिक कामगारों को 3 महीने की 50 फीसदी सैलरी दी जाएगी। यह सैलरी नौकरी छूटने या नौकरी छूटने की संभावना के कारण बेरोजगारी लाभ के तौर पर दी जाएगी। इस योजना का लाभ 24 मार्च से 31 दिसंबर 2020 तक बेरोजगार हुए कर्मचारियों को मिलेगा।

the india rise news, pm modi scheme


 

ESIC से मिली मंजूरी

बिजनेस अखबार मिंट के मुताबिक यह प्रस्ताव गुरुवार को कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) की बैठक में रखा गया था। ESIC श्रम मंत्रालय का एक संगठन है। जो 21,000 रुपए तक के कर्मचारियों को ESI की स्कीम मुहैया करवाता है। इस बोर्ड की अध्यक्षता श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने की थी।

 

जानें क्या है शर्त ?

इस बेरोजगार भत्ते का लाभ उन कर्मचारियों को मिलेगा जो एम्प्लॉयी स्टेट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन के तहत रजिस्टर्ड हैं। अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना के तहत कर्मचारियों को लाभ मिलेगा। इसका संचालन ESIC करता है। जिन कर्मियों का ESIC के तहत रजिस्ट्रेशन नहीं है उन्हें सरकार की इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

 

ESIC ब्रांच ऑफिस में कर सकते हैं क्लेम 

बोर्ड के फैसले के  मुताबिक बीमित व्यक्ति को इस योजना का लाभ लेने के लिए एम्प्लॉयर के ऑफिस जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बीमित व्यक्ति ESIC जे ब्रांच ऑफिस में क्लेम कर सकता है। एम्प्लॉयर के साथ क्लेम के वैरिफिकेशन का काम ब्रांच ऑफिस से किया जाएगा। वैरिफिकेशन होने के बाद पैसा सीधे बीमित व्यक्ति के खाते में आ जाएगा।

 

कोरोना के कारण 80 लाख कामगार ESIC की योजना से बाहर हुए

ESIC बोर्ड के सदस्य और भारतीय मजदूर संघ की नेशनल एक्सिक्यूटिव कमेटी के सदस्य  वी. राधाकृष्णन ने कहा कि इस फैसले से कर्मचारियों के बड़े हिस्से को लाभ मिलेगा।  अब तक जो नौकरी गवां चुके हैं और आने वाले समय में नौकरी छूटने की संभावना वाले कामगार शामिल हैं।  वी. राधाकृष्णन के मुताबिक कारोबार पर कोरोना के दुष्प्रभाव से पिछले कुछ महीनों में करीब 80 लाख कामगार ESIC की योजना से बाहर हुए हैं। इस फैसले से करीब 40 लाख कामगार लाभान्वित होंगे इस योजना पर सरकार का 6700 करोड़  रुपए खर्च करने की संभावना है।

Follow Us