छत्तीसगढ़ के रायपुर से एक अजीब मामला सामने आया है,  जहां पर एक बुजुर्ग जिंदा महिला को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मामले का खुलासा तब हुआ, जब परिजन उसे अंतिम संस्कार के लिए लेकर श्मशान घाट पहुंच गए।  रायपुर की रहने वाली 73 साल की लक्ष्मीबाई अग्रवाल दोपहर तीन से चार बचे खाना खाते समय अचनाक बेहोश हो गईं। इसके बाद लक्ष्मीबाई को तुरंत ही इलाज के लिए अंबेडकर अस्पताल में ले जाया गया। इमरजेंसी में उनका इलाज शुरू किया। यहां उनकी कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव आई।

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

 बता दें महिला को चिता पर लेटाने ही वाले थे कि महिला की नब्ज चलने लगी। उन्होंने तुरंत ही डॉक्टर को श्मशान घाट पर पल्स चेक करने के लिए बुलाया और जांच के दौरान डॉक्टर ने महिला को जीवित घोषित कर दिया। इलाज के दौरान डॉक्टरों ने बुजुर्ग महिला का ईसीजी किया और कुछ देर बाद मृत घोषित कर परिजनों को सूचना दे दी। परिजन शव को लेने अस्पताल पहुंचे और एंबुलेंस से शव को मुक्ति धाम ले गए, जहां पर अंतिम संस्कार की पूरी तैयारी हो चुकी थी। बस महिला को चिता पर रखना बाकी रह गया था। इस दौरान परिजनों को पता चला कि महिला की पल्स चल रही है। उन्होंने तुरंत ही डॉक्टर को श्मशान घाट पर पल्स चेक करने के लिए बुलाया और जांच के दौरान डॉक्टर ने महिला को जीवित घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें : यूपी : प्रदेश के 550 शिक्षकों की जिंदगी ले डूबा कोरोना 

 मौके पर मौजूद अंतिम समय पर लोगों ने देखा कि बुजुर्ग महिला की सांसें चल रही हैं। तत्काल एक प्राइवेट डॉक्टर को चेकअप के लिए बुलाया गया। डॉक्टर ने बताया कि पल्स चल रही हैं और जल्दी से इन्हें अस्पताल लेकर जाएं। फिर से महिला को आंबेडकर अस्पताल ले जाया गया, जहां फिर से उसे मृत घोषित कर दिया।

Follow Us