Uttar Pradesh

कोरोना से लड़ाई में उत्तर प्रदेश सरकार ने बनाई मिसाल, प्रतिदिन 1 लाख सैम्पल टेस्ट करने वाला बना पहला राज्य

कोरोना से लड़ाई में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार काफी सक्रियता दिखा रही है। सरकार का टेस्टिंग पर खासा जोर दिया है। यहीं वजह है कि स्वास्थ्य महकमे ने प्रतिदिन की जाने वाली जांच के मामले में बहुत बड़ी सफलता हासिल की है। राज्य में रविवार को एक लाख से अधिक कोरोना नमूनों की जांच का रिकार्ड कायम किया गया। इस तरह उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है, जहां पर एक दिन में एक लाख से अधिक टेस्ट किए गए हैं।

 


योगी आदित्यनाथ ने प्रतिदिन एक लाख सैम्पल टेस्टिंग का दिया था निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में कोरोना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को देखते हुए शनिवार को प्रतिदिन एक लाख टेस्टिंग करने का निर्देश दिया था। टेस्टिंग क्षमता को विकसित करने का निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि “प्रति 10 दिन में 10 लाख टेस्टिंग किट मंगाई जाएं। इसके साथ ही आरटीपीसीआर तथा रैपिड एंटीजन टेस्ट के द्वारा एक लाख टेस्ट प्रतिदिन किए जाए”। इस पर स्वास्थ्य महकमे ने निर्देश तेजी से अमल करते हुए 25 जुलाई को 50 हजार से ज्यादा कोरोना जांच की गई। शनिवार को जांच की संख्या पहली बार 57 हजार का आंकड़ा पार करते हुए 57,068 बताई। वहीं 26 जुलाई को एक और बड़ी छलांग लगाते हुए यह संख्या 71,881 पहुंच गई। प्रदेश सरकार के आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक रविवार तक कुल 18,34,297 कोरोना नमूनों की जांच हो चुकी थी। रविवार को कुल 1,06,962 कोरोना नमूनों की जांच कर यह आंकड़ा 18 लाख से पार करते हुए 19 लाख से अधिक हो गया है। इस तरह राज्य में कुल 19,41,259 टेस्ट हो चुके हैं।

 

एक लाख जांच करने वाला देश का पहला राज्य बना

मुख्यमंत्री के सचिव आलोक कुमार ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि यूपी सरकार ने प्रतिदिन की कोविड-19 की जांच में 1 लाख के आंकड़े को पार कर गई है। रविवार को राज्य में कोरोना के 1,06,962 जांच किए गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई जारी रखने में यूपी सरकार हर संभव कदम उठा रही है।

 

अनलॉक के बाद आई जांच में तेजी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में अनलॉक शुरू होने के साथ ही कोरोना जांच पर ज्यादा से ज्यादा जोर दिया, जिससे वास्तविक मरीजों की संख्या सामने आ सके और उन्हे त्वरित इलाज मिल सके। इसके साथ ही संक्रमण फैलने पर रोक लगने में ​मदद मिले। लॉकडाउन में कोरोना जांच की शुरुआत के चार महीनों में 24 जून तक कुल 6,03,390 जांच हुई थी। 24 जून से 24 जुलाई तक मात्र एक महीने में 11 लाख से अधिक टेस्ट किए गए और कुल जांच की संख्या 17,05,348 पहुंच गई।

 

स्वास्थ्य विभाग की 1.90 लाख सर्विलांस टीमें कर रही सर्वेश्रण

स्वास्थ्य विभाग की 1.90 लाख सर्विलांस टीमें विभिन्न क्षेत्रों में लोगों के बीच पहुंचकर सर्वेश्रण कर रही हैं। ये टीमें अभी तक करीब 07 करोड़ लोगों के बीच पहुंच चुकी हैं और जिन लोगों में लक्षण मिला, उनकी त्वरित जांच करायी गई। इस वजह से बड़ी संख्या में संक्रमित लोगों का पता चला। इसी तरह आरोग्य सेतु एप से भी कई लोग जांच के बाद संक्रमित मिले।

 

पांच जिले बने चुनौती

इस समय पांच जिले चुनौती बने हुए हैं यहां संक्रमित मरीज सबसे ज्यादा हैं। इसमें लखनऊ में 3210, कानपुर में 1799, वाराणसी में 1282, झांसी में 983 व गाजियाबाद में 932 एक्टिव केस हैं। प्रदेश में अब तक कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 67 हजार से अधिक हो गया है।

आरोग्य सेतु डाऊनलोड करने में भी पहला स्थान

देश में कुल 14.49 करोड़ लोगों ने इस एप को डाउनलोड किया है। वहीं उत्तर प्रदेश में 2.47 करोड़ लोग इस एप को डाउनलोड कर चुके हैं। देश में इस एप को डाउनलोड करने के मामले में उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर है।

14 लाख के पार हुआ कोरोना का आंकड़ा

देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 49,931 नए मामले (27 जुलाई, 2020 की सुबह नौ बजे के आंकड़े) सामने आए हैं। इस दौरान 708 मरीजों की मौत भी हुई है। इसके साथ ही देश में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 14 लाख के पार चला गया है। बता दें कि कुल 14,35,453 कोरोना मरीजों में से 4,85,114 एक्टिव मरीज हैं और 9,17,568 मरीज ठीक हो चुके हैं। देश में अब तक कोरोना से 32,771 लोगों की मौत हुई है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button