India Rise Special

Stock Market में रुचि रखने वाले युवा ध्यान दें, इस टेक्नोलॉजी से आएगा बिजनेस में बूम

हर देश को आगे बढ़ने के लिए आज के वक्त में अपनी टेक्नॉलॉजी को और ज्यादा एडवांस बनाने की जरूरत है भारत के अंदर कोरोना वायरस संक्रमण की लहर आने के बाद से लोगों को डिजिटल दुनिया की अहमियत काफी अच्छे से मालूम होने लगी आपको बता देगी कोरोना की चेन ने सभी स्टेट फोल्डर को पूरी प्रक्रिया के डिजिटल बदलाव की जरूरत समझाई है। ऐसे में हमें डिजिटलाइजेशन पर और ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़े : मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पताल में कोरोना संदिग्ध मरीज ने की गला रेत कर आत्महत्या

Youngsters interested in stock market

यह भी पढ़े : मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पताल में कोरोना संदिग्ध मरीज ने की गला रेत कर आत्महत्या

आज के बाद सुबह भारत के युवा डिजिटल माध्यम से ज्यादा बिजनेस करने पर ध्यान दे रहे हैं क्योंकि डिजिटल माध्यम के तहत बिजनेस में काफ़ी आसानी हो रही है। कोरोना वायरस संक्रमण के समय में लोग ज्यादा बिजनेस पर ही अपना ध्यान एकत्रित कर रहे हैं जिसमें बड़ी संख्या भारत के युवाओं की है। भारत के अंदर डिजिटलाइजेशन को और बढ़ावा देने के लिए वर्ल्ड इकोनामिक फोरम की एक नई रिपोर्ट में कई बातों को कहा गया है जो भारत के हर युवा को जानना बहुत जरूरी है उनको जानना बहुत जरूरी है जो बिजनेस में अपना भविष्य देखते हैं आजकल हर बिजनेस ऑनलाइन उठ कर आ गया है।

ट्रेडिंग का व्यापार भी काफी तेजी से बढ़ रहा है लोग ऑनलाइन शेयर खरीदने और बेचने का काम शुरू कर रहे हैं आज से कुछ वक्त पहले देखा जाए तो लोग शेयर मार्केट के बारे में इतनी जानकारी नहीं रखते थे लोग एडवाइजर के जरिए ही शेयर को बेचते खरीदते थे लेकिन बढ़ती तकनीकी के कारण और कोरोनावायरस महामारी के वजह से लोग अपने घर से ही ट्रेडिंग करना शुरू कर चुके हैं बहुत से ऐसे मोबाइल ऐप भी मौजूद है जो ऑनलाइन ट्रेडिंग करने का मौका देते हैं ।

यह भी पढ़े : मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पताल में कोरोना संदिग्ध मरीज ने की गला रेत कर आत्महत्या

टेक्नोलॉजी इतनी आगे बढ़ चुकी है कि लोग अपने मोबाइल से ही कंपनी के उतार-चढ़ाव और शेयर मार्केट में अपने पैंतरो को सेट कर लेते हैं ताकि उन्हें घाटा ना हो, भारत के अंदर डिजिटल करण होने से सिर्फ स्टॉक मार्केट को ही ज्यादा बढ़ावा नहीं मिल रहा है हर तरह का बिजनेस उठके ऑनलाइन आ चुका है फिर चाहे वह किसी छोटी दुकान का बिजनेस हो या फिर किसी फूड शॉप का बिजनेस हो कोई रेस्टोरेंट हो या फिर सामान की खरीदारी का बिजनेस हर कोई आज ऑनलाइन ज्यादा उपभोक्ता बन रहे हैं ऐसे में आने वाले भविष्य में भी लोग इसको और ज्यादा इस्तेमाल करने वाले हैं कोरोना वायरस संक्रमण के इस दौर में कई लोगों ने कैश का लेनदेन छोड़ दिया और डिजिटल माध्यम से ही लेनदेन करना शुरू कर दिया।

यह इस बात को बखूबी दर्शाता है कि भारत में लोग अब डिजिटल माध्यम पर भरोसा करने लगे हैं ऐसे में यह और आगे इस्तेमाल किया जाने वाला है भारत के युवाओं द्वारा और देश में सस्ता इंटरनेट सुविधा दी जाने से ज्यादा डिजिटल करण होता दिख रहा है और देश को आगे बढ़ाने में इसका बहुत ज्यादा योगदान हो सकता है हालांकि बहुत से लोग इसका दुरुपयोग भी करते हैं जिससे ठगी जैसी कई घटनाएं देखने को मिलती है।

यह भी पढ़े : मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पताल में कोरोना संदिग्ध मरीज ने की गला रेत कर आत्महत्या

क्या है वर्ल्ड इकोनामिक फोरम की रिपोर्ट

वर्ल्ड इकोनामिक फोरम ने जो रिपोर्ट जारी करी है उसका नाम है मैपिंग ट्रेड ट्रैक ट्रेड एंड फोर्थ इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन है। इस रिपोर्ट में दुनिया भर के लोगों से पूछा गया है कि व्यापार में कंपनियों के लिए कौन सी तकनीक सबसे ज्यादा कार्य कर साबित होगी में सबसे ज्यादा 59 फीसद लोगों ने सप्लाई चेन में इस्तेमाल इंटरनेट ऑफ थिंग्स को सबसे ज्यादा बदलाव लाने वाली तकनीक बताया है।

यह भी पढ़े : मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पताल में कोरोना संदिग्ध मरीज ने की गला रेत कर आत्महत्या

इसके बाद 56 फीसद लोगों ने डिजिटल पेमेंट, 53 फीसद लोगों ने ई-कॉमर्स प्लेटफार्म और 52 प्रतिशत ने क्लाउड कंप्यूटिंग को जरूरी तकनीक बताया है। इसके बाद एआई/मशीन लर्निंग को 45 फीसद, डिजिटल डॉक्यूमेंटेशन (ई-सिग्नेचर और डिजिटल पहचान) को 44 फीसद, स्मार्ट बॉर्डर सिस्टम को 38 फीसद और ब्लाकचेन को 37 फीसद ने सबसे ज्यादा बदलाव लाने वाली तकनीक माना है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button