Career

BAMS क्या है, कैसे करें यह कोर्स 

आयुर्वेद World की सभी Therapy System में से एक है BAMS। इस Therapy द्वारा ना सिर्फ बीमारी को ठीक किया जाता है बल्कि बीमारी को जड़ से खत्म भी कर दिया जाता है। आयुर्वेद में शिक्षा प्राप्त करने के लिए BAMS Course करना होता है।  BAMS आयुर्वेद Certified Course है, जो Ayurvedic Medical College के लिए दी जाने वाली Undergraduate Degree है। देश में इस कोर्स को Central Council Of Indian Medicine के द्वारा मान्यता दी जाती है। बीएएमएस 12th के बाद साढ़े 5 वर्ष की अवधि का होता है, जिसमे एक वर्ष का इंटर्नशिप भी शामिल है।

Bams course में  आयुर्वेदिक दवाइयों के बारे में पढ़ा जाता है इसमें हमें आयुर्वेदिक दवाइयों के द्वारा हम लोगों का इलाज कैसे कर सकते हैं. आयुर्वेदिक दवाइयों के फायदे आयुर्वेदिक दवाइयों द्वारा हम इलाज को कैसे बेहतर बना सकते हैं. इसमें हमें natural herb से मरीजों का treatment के बारे में बताया जाता है.

इसमें हमें nature में पाए जाने वाले सारे आयुर्वेदिक दवाइयों के बारे में भी बताया जाता है. अभी के समय में आयुर्वेदिक दवाइयां बहुत तेजी से बढ़ रही है जिस कारण से इसमें आपको आयुर्वेदिक दवाइयों पर reaearch करने का भी मौका मिलता है.

इस कोर्स में nature में पाई जाने वाली दवाइयों और nature का उपयोग करके कैसे हम बीमारियों का इलाज कर सकते हैं. BAMS COURSE में आपको MODERN MEDICINE और TRADITIONAL MEDICINE (आयुर्वेद) के विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है. यह कोर्स एक बेहतरीन मेल है जिसमें आपको प्राचीन दवाइयों और आधुनिक दवाइयों के द्वारा इलाज करने के तरीकों को सिखाया जाता है।

बीएएमएस कोर्स करने की योगयता

  • आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के लिए आपको सबसे पहले दसवीं के बाद 11TH और 12TH में BIOLOGY, CHEMISTRY, PHYSICS विषय लेना होता है.
  • आपका अपनी 12वीं कक्षा की परीक्षा में कम से कम 50% अंक लाने होते हैं.
  • BAMS COURSE के लिए MEDICAL COLLEGE ENTRANCE EXAM आयोजित कर आती है. इस पर इस परीक्षा को पास करना अनिवार्य है तभी जाकर आपको इस कोर्स में दाखिला मिलता है.\

यह भी पढ़ें :BFA कोर्स क्या है, कैसे करे, यहां जानें पूरी जानकारी 

उम्र सिमा (AGE LIMIT) 

BAMS  course को करने के लिए छात्र की आयु कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए। अगर छात्र की उम्र 17 वर्ष से कम है तो वह bams course में दाखिला नहीं ले सकता है।

बीएएमएस कैसे करे पूरी जानकारी

अगर आप आयुर्वेदिक डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको बीएमएस कोर्स करना होता है हमने bams course क्या है? bams को करने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए इन सब के बारे में जाना है। अब मैं आपको बी ए एम एस कोर्स कैसे करें उसके एक-एक चरण के बारे में विस्तार से बताऊंगा।

 step.1  सबसे पहले दसवीं कक्षा के बाद बायोलॉजी विषय से पढ़ाई करनी है आपको अपने 11वीं और 12वीं कक्षा में बहुत ज्यादा मेहनत करना होता है. ताकि आपके 12वीं कक्षा में अच्छे अंक आ सके और 12वीं कक्षा में आपको मेडिकल की शिक्षा बायोलॉजी विषय से बहुत अच्छे से मिलती है. इसीलिए 12वीं कक्षा में अच्छे अंक लाएं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई भी बहुत अच्छे से करें.

step.2  12वीं कक्षा में 50% से अधिक अंक लाने के बाद आपको बीएएमएस कोर्स  के लिए प्रवेश परीक्षा (Entrance Exam) देनी होती है. आपको अपने प्रवेश परीक्षा की तैयारी 11वीं 12वीं कक्षा के कर देनी चाहिए क्योंकि प्रवेश परीक्षा अंक के आधार पर ही आपको कॉलेज में दाखिला मिलता है इसीलिए जब आपका प्रवेश परीक्षा में अच्छे अंक होंगे तभी आपको किसी अच्छे कॉलेज में दाखिला मिलेगा।

 step.3  स्कूल की प्रवेश परीक्षा में आपसे 12वीं कक्षा के विषय से प्रश्न पूछे जाते है. इसके लिए आप बायोलॉजी, केमिस्ट्री, फिजिक्स के तैयारी बहुत अच्छे से करें। इन्हीं सारे विषय से इस परीक्षा में प्रश्न पूछे जाते हैं।

The Top Entrance Exam For BAMS

  • National Institute Of Ayurved Entrance Exam
  • Uttarakhand Pg Medical Entrance Exam
  • Kerala State Entrance Exam
  • Common Entrance Test (Cet), Karnataka
  • Ayush Entrance Exam

इन प्रवेश परीक्षाओं के द्वारा बीएएमएस कोर्स में दाखिला ले सकते हैं।

Best BAMS College in India 

अभी के समय में आयुर्वेदिक इलाज बहुत तेजी से बढ़ा है जिस कारण से आयुर्वेदिक कोर्स की मांग बढ़ रही है इसलिए आज हमारे देश में बहुत सारे कॉलेज है जहां पर आप बीएएमएस कोर्स को कर सकते हैं। अब मैं आपको top bams college in india की  लिस्ट दूंग। 

  • Institute of Medical Science
  • National Institute of Ayurveda
  • Maharashtra  University of Health science
  • Banaras Hindu University
  • Gujrat Ayurveda university
  • Bharti Vidyapeeth Deemed University
  • Kerla university of health science
  • NTR University of health science
  • Madhav university
  • Baba Farid University of health science

बीएएमएस कोर्स में करियर स्कोप

Ayurvedic doctor की पढ़ाई पूरी करने के बाद युवाओं के पास बहुत सारे अवसर होते हैं. क्योंकि आज अधिकतर लोग यही चाह रहे हैं कि वह प्राकृतिक तरीकों से अपनी बीमारियों का इलाज करें। आयुर्वेदिक दवाइयों से बीमारियों का इलाज तो किया जाता है साथ ही साथ ऐसे दवाइयों से बीमारियों को जड़ से मिटाया जाता है.

इसी कारण आज हमारे moder medical sector में आयुर्वेद का इस्तेमाल बहुत तेजी से हो रहा है। आयुर्वेदिक के पढ़ाई पूरी करने के बाद आपको निम्नलिखित पदों में नौकरियां मिलती है।

  • Ayurvedic physician
  • Ayurvedic doctor
  • Medical officer
  • Sales representative
  • Lecturer
  • Pharmacist
  • Scientists
  • Ayurvedic researcher
  • Therapist
  • Product Manager
  • Medical Representative
  • Work in Nursing Home
  • Dispensaries
  • Research Institutes
  • On Duty Doctor
  • Work In Healthcare Community
  • Area Sales Manager
  • Sales Representative
  • Category Manager
  • Pharmacist
  • Lecturer

Top BAMS Doctor Recruiter Sector

  •  Government hospital 
  •  Private hospital 
  •  Pharmaceutical company
  •  Clinic 

बीएएमएस डॉक्टर की सैलरी (BAMS Doctor Salary)

बीएएमएस डॉक्टर बनने के बाद आपको सरकारी तथा प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में नौकरियां मिलती है इसीलिए इन क्षेत्रों में थोड़ी तनख्वाह में बदलाव रहता है एक आयुर्वेदिक डॉक्टर औसतन हर महीने 30000 से ₹55000 तक आराम से कमा सकता है फिर जैसे-जैसे क्षेत्र में आपका अनुभव बढ़ता है आपकी तनख्वाह से बढ़ती है।

इस क्षेत्र में समय बिताने के बाद एक आयुर्वेदिक डॉक्टर हर महीने लगभग ₹50000 से लेकर ₹70000 आराम से कमा सकता है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button