उत्तराखंड

उत्तराखंड: शिक्षकों व कर्मचारियों का पिछले माह का वेतन जारी

उत्तराखंड के 80 हजार से अधिक शिक्षकों एवं कर्मचारियों को शासन की ओर से पिछले माह का रुका वेतन जारी कर दिया गया है। बता दें शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने बताया कि जल्द ही शिक्षकों एवं कर्मचारियों को वेतन मिल जाएगा। इस संबंध में प्रभारी शिक्षा निदेशक को आदेश जारी कर दिया जाएगा।  जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विनोद थापा ने बताया कि प्रदेश में प्राथमिक से लेकर माध्यमिक स्तर के शिक्षकों एवं कर्मचारियों को मार्च का वेतन नहीं मिला। वेतन न मिलने से उनमें नाराजगी बनी है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड: ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए उद्योगों में सप्लाई पर रोक 

उनका कहना है कि वेतन को लेकर शिक्षक, शिक्षा निदेशालय से लेकर शासन स्तर पर संपर्क कर रहे हैं, लेकिन उन्हें बताया जा रहा है कि बजट सरेंडर न होने की वजह से मार्च का वेतन जारी नहीं हो पाया है। इसके अलावा शासन स्तर पर कुछ अधिकारी व कर्मचारी कोरोना पॉजेटिव बताए जा रहे हैं, जिससे वेतन मिलने में देरी हो रही है।

शिक्षा निदेशक आरके कुंवर का स्वास्थ्य ठीक नहीं है, प्रभारी निदेशक को इस संबंध में आदेश जारी किया जाएगा कि जल्द शिक्षकों का वेतन जारी किया जाए।
-आर मीनाक्षी सुंदरम, शिक्षा सचिव

एलआईसी कर्मचारियों के वेतन में 16 प्रतिशत की बढ़ोतरी

बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा (एलआईसी) ने कोरोनाकाल में कर्मचारियों को बढ़ी राहत दी है। वेतन में 16 प्रतिशत के इजाफा के साथ हफ्ते में पांच दिन काम की व्यवस्था को लागू कर दिया है। हालांकि जब तक सभी पॉलिसीधारकों को पांच दिन काम की पूरी जानकारी नहीं हो जाती तब तक सप्ताह में छह दिन कार्यालय आएंगे। इस दौरान पूर्व की भांति महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को ही एलआईसी कर्मचारियों का अवकाश रहेगा।

यह भी पढ़ें : कोरोना के चलते केदारनाथ समेत पर्यटक स्थलों पर 10 लाख से अधिक की बुकिंग रद्द 

नेशनल फेडरेशन ऑफ इंश्योरेंस फील्ड फील्ड वर्कर्स ऑफ इंडिया के मंडलीय सचिव जयदीप सिंह बिष्ट ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से एलआईसी कर्मचारियों के लिए संशोधित वेतन पैकेज को मंजूरी मिल गई है। इससे एलआईसी के देशभर के कर्मचारियों को फायदा होगा। इसके साथ ही पांच दिन काम वाली व्यवस्था को भी मंजूरी मिल गई हैं।

हालांकि अभी पॉलिसीधारकों को इसकी जानकारी नहीं है। ऐसे में अभी एलआईसी के अधिकारी-कर्मचारी पूर्व की तरह ही कार्यालय में कार्य करेंगे। पॉलिसीधारकों को पांच दिन काम वाली व्यवस्था की जानकारी होने के बाद कर्मचारी एलआईसी में पांच ही दिन कार्य करेंगे। 

Follow Us

Related Articles

Back to top button