उत्तर प्रदेश सरकार 1 मई (शनिवार) से 18 से 44 साल के लोगों को कोरोना टीका लगाने की शुरुआत कर रही है। पहले चरण के तहत उन सात जिलों में टीकाकरण की शुरुआत होगी जहां पर संक्रमण के नौ हजार से अधिक उपचाराधीन मरीज हैं। इसके बाद अन्य जिलों में भी इस आयुवर्ग के लोगों के टीकाकरण की शुरुआत होगी। जिन जिलों में टीकाकरण की शनिवार से शुरुआत होगी, उनमें लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखपुर, मेरठ और बरेली शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : यूपी में जल्द लगेंगे 125 ऑक्सीजन प्लांट 

उम्र का दायरा बढ़ने से टीकाकरण केंद्रों पर भीड़ भी बढ़ने की पूरी संभावना है। पहले दिन ही व्यवस्था गड़बड़ाने से केंद्रों पर हंगामे की भी आशंका है। कोरोना से बचाव के लिए 18 से 44 साल की उम्र के लोगों के निशुल्क टीकाकरण के केंद्र सरकार के एलान के बाद शहर से हजारों की संख्या में ऑनलाइन पंजीकरण हुए हैं। गुरुवार को पंजीकरण में थोड़ी दिक्कत थी पर शुक्रवार को आसानी रही।

यह भी पढ़ें : यूपी: सीएम योगी की रिपोर्ट आई निगेटिव, ट्वीट कर दी जानकारी 

पंजीकरण कराते ही लोगों के मोबाइल पर एसएमएस भी आया, लेकिन इसमें न टीकाकरण केंद्र का पता चला और न ही यह कि टीका किस तारीख को लगेगा। इससे लोग असमंजस रहे। कुछ लोगों ने कोविड कमांड सेंटर के टोलफ्री नंबर से जानकारी हासिल करने की कोशिश की, पर कर्मचारियों ने कोई जानकारी न होने का हवाला देकर हाथ खड़े कर दिए। 

दक्षिणी राज्यों में नहीं शुरू होगा टीकाकरण
तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और पुडुचेरी ने कहा कि उनके पास टीकों का पर्याप्त भंडार नहीं है. टीकों की आपूर्ति पर अनिश्चितता की वजह से तमिलनाडु सरकार ने आज होने वाले टीकाकरण को टालने का फैसला किया. तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर जे राधाकृष्णन ने कहा, ‘मैं अब स्पष्ट करना चाहता हूं कि हमें नहीं पता कि टीकों की तमिलनाडु सरकार द्वारा मांगी गईं 1.5 करोड़ खुराकों में से कितनी खुराक मिलेंगी और कब मिलेंगी.’ 

Follow Us