पंचायत चुनाव की ड्यूटी से लौटने के बाद कोरोना संक्रमण की वजह से अब तक पूरे प्रदेश में 550 शिक्षकों की जिंदगी ले चुकी है। यह दावा करते हुए उत्तर प्रदेश शिक्षक महासंघ ने प्रदेश सरकार से पंचायत चुनाव की मतगणना स्थगित कराने की मांग की है। 

यह भी पढ़ें : यूपी पंचायत चुनाव : आखिरी दौर का मतदान शुरू, व्यवस्था के लिए चप्पे चप्पे पर पुलिस  

इलाज के अभाव में दम तोड़ रहे शिक्षक
उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ का कहना है कि मौत के मुंह में समाने वाले अधिकतर शिक्षक चुनाव ड्यूटी के बाद संक्रमित हुए हैं। संघ की ओर से सोमवार को कोरोना के शिकार हुए 25 शिक्षकों के नाम हैं जबकि तीन  शिक्षकों की मौत बुधवार को हो गई। इस प्रकार जिले में 28 परिषदीय शिक्षक दुनिया में नहीं रहे। शिक्षक संघ का कहना है कि कोरोना के कारण जान गंवाने वाले अधिकतर शिक्षक पंचायत चुनाव में मतदान और उससे पहले हुए प्रशिक्षण के बाद बीमार पड़े. जिन्हें इलाज नहीं मिल सका।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार ने जारी किया निर्देश, गरीबों को मई व जून में निःशुल्क देगी राशन 

शिक्षक महासंघ का दावा है कि कोरोना की वजह से उन जिलों में अधिक शिक्षकों की जिंदगी जा चुकी है, जहां पंचायत चुनाव हो चुका है। पहले चरण में चुनाव वाले प्रयागराज जिले में 28 प्राथमिक शिक्षक एवं 10 माध्यमिक शिक्षकों की मौत हुई । उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ का कहना है कि मौत के मुंह में समाने वाले अधिकतर शिक्षक चुनाव ड्यूटी के बाद संक्रमित हुए हैं। जान गंवाने वाले अधिकतर शिक्षक पंचायत चुनाव में मतदान और उससे पहले हुए प्रशिक्षण के बाद बीमार पड़े. जिन्हें इलाज नहीं मिल सका।

Follow Us