राजधानी में कोरोना से संबंधित इंजेक्शन रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी जोरों पर है। गोमतीनगर पुलिस ने शुक्रवार को सीतापुर रोड स्थित हर्षा हॉस्पिटल के मालिक शहजाद अली और दवा कंपनी के एमआर समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें : निः शुल्क वैक्सीनेशन : कार्ययोजना बनाने के लिए योगी सरकार ने बनाई कमेटी 

पुलिस ने 54 इंजेक्शन और 51400 बरामद किए हैं। इंस्पेक्टर गोमतीनगर केशव कुमार तिवारी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों में हर्षा हॉस्पिटल का संचालक शहजाद अली, दुबग्गा निवासी सचिन रस्तोगी, फरीदीपुर निवासी कृष्णा दीक्षित और बर्फखाना का रितेश गौतम है।

बहुत जरूरी है लगवाना यह इंजेक्शन कहकर तीमारदारों पर बनाता था दबाव : इंस्पेक्टर ने बताया कि अस्पताल में भर्ती मरीजों के तीमारदारों से शहजाद और उसके स्टाफ के लोग कहते थे कि यह इंजेक्शन लगना बहुत जरूरी है। मार्केट में इंजेक्शन है नहीं तुम लाओगे तो नकली हो सकता है।

यह भी पढ़ें : कोरोना के चलते देरी से होगी ऑल इंडिया की प्रवेश परीक्षाएं  

छह हजार रुपये में देता था एमआर : इंस्पेक्टर ने बताया कि दवा कंपनी का एमआर कृष्णा दीक्षित रेमडेसिविर इंजेक्शन छह हजार रुपये में रितेश गौतम और सचिन रस्तोगी को देता था। इसके बाद यह लोग इंजेक्शन शहजाद को 10500 रुपये में बेचता था। शहजात मरीजों से 20 से 25 हजार रुपये वसूलता था। इंस्पेक्टर ने बताया कि गिरोह के अन्य लोगों की तलाश में दबिश दी जा रही है।

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण कहर मचा रहा है। प्रदेश में शुक्रवार को बीजेपी के दो विधायकों समेत रेकॉर्ड 196 लोगों की मौत हो गई। वहीं कोरोना के रेकॉर्ड 37 हजार से ज्यादा नए केस सामने आए। राजधानी लखनऊ में पश्चिम क्षेत्र के बीजेपी विधायक सुरेश चन्द्र श्रीवास्तव का शुक्रवार देर शाम निधन हो गया, वहीं सुबह औरैया के बीजेपी विधायक रमेश दिवाकर ने भी कोरोना महामारी के चलते दम तोड़ दिया।

Follow Us