नहीं रहे हरिद्वार पतंजलि योगपीठ के स्वामी मुक्तानन्द, आकस्मिक निधन से आश्रम में शोक की लहर


हरिद्वार : हरिद्वार(Haridwar) के पतंजलि योग पीठ(Patanjali Yogpeeth ) के स्वामी मुक्तानंद(Swami Muktanand) व् बाबा राम देव के साथी का कल निधन आश्रम में शोक की लहर दौड़ गयी. हरिद्वार पतंजलि योगपीठ में स्वामी मुक्तानंद ने 66 वर्ष की आयु में अंतिम सांस ली. उनका निधन शुक्रवार की रात तकरीबन 9:30 बजे अचानक निधन हो गया. बताया जा रहा है की , वे पतंजलि योगग्राम के प्रभारी थे, मुक्तानंद स्वामी मुक्तानंद पतंजलि योगपीठ के कोषाध्यक्ष थे और वह पतंजलि योगग्राम के प्रभारी भी थे। उनका जन्म जुलाई 1956 में पश्चिम बंगाल में हुआ था।

ये भी पढ़े :- चारधाम यात्रा मार्ग पर यात्रियों की सुविधा के लिए खोले गए ढाबे, गुणवत्ता के साथ अधिक जा रहे वसूले

जड़ी-बूटियों का विशेष ज्ञान रखते थे स्वामी मुक्तानंद, 

जानकारी के मुताबिक़, स्वामी मुक्तानंद ने संस्कृत से स्नातकोत्तर और विज्ञान व गणित विषय के साथ उन्होंने बीएससी पास की थी। जड़ी-बूटियों का था विशेष ज्ञान था. बीते शुक्रवार की शाम से उनकी तबियत अचानक बिगड़ी और उनकी सांसें उखड़ने लगीं, तुरंत उन्हें एंबुलेंस से सिडकुल हरिद्वार स्थित मेट्रो हास्पिटल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

ये भी पढ़े :- बदरीनाथ हाईवे पर प्रस्तावित हेलंग-मारवाड़ी बाईपास मार्ग को हरी झंडी, जानिए कब से शुरू होगा निर्माण कार्य

कनखल शमशान घाट(Kankhal Crematorium) पर आज होगा अंतिम संस्कार

स्वामी मुक्तानंद मिलनसार, हंसमुख स्वभाव के स्वामी मुक्तानंद को जड़ी-बूटियों का विशेष ज्ञान था। जड़ी-बूटी शोध संस्थान बनाने में महत्वपूर्ण योगदान पतंजलि को जड़ी-बूटी शोध संस्थान बनाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उनके निधन पर स्वामी रामदेव, आचार्य बालकृष्ण, राम भरत ने गहरा शोक व्यक्त किया है। उनका अंतिम संस्कार शनिवार शाम को 3:00 बजे कनखल शमशान घाट पर किया जाएगा।

Follow Us

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: