Success Story

Success Story : रेणुका सिंह ने पिता का सपना किया पूरा, राष्ट्रमंडल खेलों में दिखाया जलवा

गांव में क्रिकेट खेलना शुरू किया। बाद में हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन की धर्मशाला अकादमी के लिए चुनी गईं।

कहते हैं न कि जज्बा और जुनून हो तो आप किसी भी मंजिल तक पहुंच सकते हैं। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है, राष्ट्रमंडल खेलों में हिमाचल की बेटी रेणुका सिंह ठाकुर ने। जिनका राष्ट्रमंडल खेलों में शानदार प्रदर्शन जारी है।
शिमला जिले के रोहडू के पारसा गांव में जन्मी रेणुका के पिता का साया उनके सिर से तीन साल की उम्र में हट गया था। लेकिन पिता केहर सिंह चाहते थे कि, उनकी बेटी क्रिकेटर बने। वह विनोद कांबली के बड़े फैन थे। 1999 में रेणुका के पिता के निधन के बाद रेणुका की मां को सरकारी नौकरी मिली। पिता के निधन के बाद उसने गांव में क्रिकेट खेलना शुरू किया। बाद में हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन की धर्मशाला अकादमी के लिए चुनी गईं।
रेणुका ने गुरु एचपीसीए के कोच पवन सेन से क्रिकेट की बारीकियां सीखीं। 2019 में रेणुका ने बीसीसीआई महिला वन डे टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 23 विकेट लिए, इसके लिए उनकी सबने सराहना की। रेणुका से पहले दो हिमाचली महिला खिलाड़ी भारतीय टीम का हिस्सा बनी हैं। शिमला के ही सुन्नी की सुषमा वर्मा भी भारतीय महिला टीम में खेल चुकी हैं। हरलीन देओल भी भारत की ओर से खेली हैं। रेणुका के शानदार प्रदर्शन से क्षेत्र में खुशी की लहर है।
रेणुका सिंह ठाकुर की प्रतिभा राष्ट्रमंडल खेलों में देखने को मिली। दरअसल भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने अपने तीसरे मुकाबले में बारबाडोस को हरा दिया। टीम इंडिया से मिले 163 रन के लक्ष्य के सामने बारबाडोस की टीम आठ विकेट पर 62 रन ही बना सकी। और भारतीय महिला क्रिकेट टीम सेमीफाइनल में पहुंच गई। और पदक जीतने से सिर्फ एक कदम दूर है।
इस जीत में सबसे बड़ा योगदान भारत की तेज गेंदबाज रेणुका सिंह ठाकुर का रहा। रेणुका ने गेंदबाजी से कहर बरपा दिया। पहले ओवर की तीसरी गेंद पर उन्होंने दिएंद्रा डॉटिन को बोल्ड कर दिया, वो अपना खाता भी नहीं खोल पाईं। इसके बाद अपने दूसरे ओवर की दूसरी गेंद पर हैली मैथ्यूज को शेफाली के हाथों कैच कर दिया। वो 9 रन बना सकीं। इसके बाद तो एक छोर से विकेटों की झड़ी लग गई। और स्कोर अचानक 5 ओवर में 19 रन पर 4 विकेट हो गया। चारों शुरुआती विकेट रेणुका ने झटके। लेकिन इसके बाद बारबाडोस की टीम पूरी तरह बैकफुट पर नजर आने लगी।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: