SUCCESS STORY: हर जन्मदिन पर एक पौधा लगाकर बना दिया इंडिया का पहला बर्थ-डे गार्डन


द इंडिया राइज
कभी-कभी इंसान की एक छोटी सी कोशिश बड़े बदलाव की वजह बन जाती है। 12 साल पहले अपने जन्मदिन पर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर बसे गांव रहपुरा गिरधारीलाल में आम का एक पौधा लगाने वाले रोटेरियन पीपी सिंह ने शायद उस वक्त यह नहीं सोचा होगा कि एक दिन वह बरेलीवालों के लिए एक अनूठा बर्थ-डे गार्डन तैयार कर देंगे। जहां आम, अमरूद, आंवला, नींबू और बेल के पेड़ के साथ जैविक सब्जियां भी लहलाएंगी।
birthday garden1
पीपी सिंह रोटरी क्लब के पूर्व गवर्नर हैं। पांच सितंबर 2008 को उन्होंने भुता के गांव रहपुरा गिरधारी में अपने खेत पर आम के कुछ पौधे लगाए। इसके बाद उनके परिवार के जिस सदस्य का जन्मदिन आया, वह पौधे रोपने गांव पहुंचा। पीपी सिंह की इस पहल की खबर रोटरी क्लब में फैली। रोटरी क्लब बरेली नॉर्थ के तमाम सदस्य गांव पहुंचे और उन्होंने अपने और परिवार के सदस्यों के जन्मदिन पर पौधे लगाने शुरू किए। आम का बाग लगाने से हुई शुरुआत आगे बढ़ती गई। आम के बाद अमरूद फिर नींबू, बेल और आंवला के पेड़ लगते चले गए और बाग का आकार बढ़ता चला गया।

चिड़िया, तितली और मधुमक्खियों का पसंदीदा ठिकाना
बर्थ-डे गार्डन इंसानों के साथ चिड़िया, तितली और मधुमक्खियों का भी पसंदीदा ठिकाना है। फल और सब्जियों के बाग में तमाम चिड़ियों के घोसले हैं। रंग बिरंगी तितलियों को भी पूरे दिन यहां मंडराते देखा जा सकता है। शहर से आने वाले लोग यहां वक्त गुजारने के साथ ही फोटोग्राफी का आनंद भी लेते हैं।

मनपंसद की सब्जी उगाओ, घर पर डिलीवरी पाओ
फलों के बाग तैयार करने के बाद पीपी सिंह ने रोटेरियन और शहर के कुछ लोगों को साथ जोड़कर जैविक सब्जियों का फार्म फार्मी ग्रीन शुरू किया। फार्म का हर सदस्य अपनी मनपंसद सब्जी का पौधा या बीज लगाता है। इसके बाद हर सदस्य को उसकी पसंद की सब्जी के साथ बाकी सब्जियों की भी होम डिलीवरी की जाती है। पीपी सिंह ने बताया कि यह अपनी तरह का नया कांसेप्ट है। अब तक 40 लोग उनके जैविक सब्जी फार्म से जुड़ चुके हैं।

शहर के लोगों को ताजी सब्जी व फल, गांव वालों को रोजगार
बर्थ-डे गार्डन शहर के लोगों को ताजी सब्जी और फल उपलब्ध कराने के साथ ही गांव के लोगों को रोजगार दे रहा है। आम, अमरूद और सब्जियों के बाग से गांव के करीब 20 युवाओं को रोजगार मिला है। अब बाग का विस्तार करके गांव के बाकी लोगों को इससे जोड़ने की तैयारी है। पीपी सिंह ने बताया कि फल और सब्जियों की खेती पूरी तरह जैविक विधि से की जा रही है। इसके लिए डॉ. विकास वर्मा की होम्योपैथिक दवाओं का इस्तेमाल किया जा रहा है।

स्कूलों में बच्चों को दिला रहे संकल्प, जन्मदिन पर जरूर लगाएंगे पौधा
पीपी सिंह शहर के स्कूलों में कार्यक्रम करके बच्चों को जन्मदिन पर एक पौधा लगाने का संकल्प दिला रहे हैं। उन्होंने बताया कि पिछले कई बरसों से उन्हें सामाजिक संगठनों के साथ मिलकर यह मुहिम शुरू की है। बच्चे प्रकृति को लेकर जागरूक हो गए तो बरेली में भुता जैसे 100 बर्थ-डे गार्डन बनने में देरी नहीं लगेगी।
birthday garden2
12 साल पहले मेरे दिमाग में एक आइडिया आया कि क्यों न हर बर्थ-डे एक पौधा लगाकर मनाया जाए। मैंने ऐसा करना शुरू कर दिया। धीरे-घीरे तमाम लोग मेरे साथ आते चले गए और यूपी का पहला बर्थ-डे गार्डन तैयार हो गया। मुझे लगता है प्रदेश में यह अपनी तरह का पहला गार्डन है। अब हम इस मुहिम को तेजी से आगे बढ़ा रहे हैं। जिससे गांव के युवाओं और किसानों को रोजगार से जोड़ा जा सके।
– पीपी सिंह, बर्थ-डे गार्डन के संस्थापक व रोटेरियन

Follow Us
%d bloggers like this: