युवा हमारे समाज का प्रतिनिधि होता है, इसीलिए युवाओं की समस्या सामाजिक समस्याओं ( Social problems ) में से एक होती है लेकिन सरकारी नीतियों के कारण युवा ढंग से नौकरी तलाश में रहता ही रह जाता है योग्य होते हुए भी उसे आसानी से नौकरी नहीं मिलती युवा शिक्षित होता है लेकिन तकनीकी जानकारी नहीं होती क्या इसमें युवा की कमी होती है? अर्थात हमारी शिक्षा नीति भी काफी हद तक सही नहीं है युवाओं का एक बड़ा वर्ग बेरोजगार के कारण मूलभूत सुविधाओं से अभी भी वंचित है वह अपनी बुनियादी जरूरतों को छोटे-मोटे संघर्ष करके पूरा कर रहा है जो हमारे देश के भविष्य के लिए बड़ा हानिकारक साबित हो सकता.

Social problems

यह भी पढ़े : ग्यारह साल की उम्र में घर से भाग दिल्ली रेलवे स्टेशन पर उठाता था कचड़ा , अब है सेलिब्रिटी फोटोग्राफर 

आजकल हमारी हर छोटी बड़ी जरूरत है सिर्फ और सिर्फ आर्थिक सुख से ही पूरी होती है ऐसे में रोजगार के लिए युवा तड़पता रहता है कई सालों तक पढ़ाई करने के बाद पढ़ाई में हजारों लाखों रुपए लगाने के बाद जब युवाओं को नौकरी नहीं मिलती है तो वह अन्य तरह के मानसिक तनाव के शिकार हो जाते हैं ऐसे में युवा की समस्या सामाजिक समस्या ( Social problems ) होती है क्योंकि हमारा समाज युवा से ही चलने वाला है युवा पीढ़ी से हमारा समाज आगे बढ़ता है.

आज का जो वक्त चल रहा है ऐसे समय में युवाओं के जीवन में बहुत प्रकारों की समस्याएं होती हैं राज्य की आर्थिक स्थिरता बेरोजगारी और भी बहुत सी युवा नौकरी की तलाश में है लेकिन तय सरकारी नीतियों के कारण योग्य होते हुए भी नौकरी आसानी से नहीं मिलती है.

यह भी पढ़े : ग्यारह साल की उम्र में घर से भाग दिल्ली रेलवे स्टेशन पर उठाता था कचड़ा , अब है सेलिब्रिटी फोटोग्राफर 

अगर भारतीय शिक्षा नीति की बात करी जाए तो शिक्षा नीतियों को लेकर कॉर्पोरेट जगत की अक्षर शिकायत ही देखने को मिलती है उसे शिक्षा मिली है उसमें योग्यता है लेकिन उसके पास अनुभव नहीं है अनुभव को भी कैसे क्योंकि उसे अनुभव लेने का कभी मौका ही नहीं मिला.

किए गए एक सर्वे की मानें तो शिक्षित युवाओं में से 80% छात्र तकनीकी रूप से आयोग होते हैं कुछ व्यवसाय ही हैं जो वह कर सकते हैं जिनमें शिक्षा के आधार पर रोजगार ना मिलने पर मैं तकनीकी ज्ञान लेने से असमर्थ होते हैं वे स्वयं ही कोई रोजगार ढूंढते हैं जिसे मैं कर सकते हैं लेकिन रोजगार उनके सपने पूरे करने में सक्षम नहीं होता है.

यह भी पढ़े : ग्यारह साल की उम्र में घर से भाग दिल्ली रेलवे स्टेशन पर उठाता था कचड़ा , अब है सेलिब्रिटी फोटोग्राफर 

लेकिन जब युवाओं को किसी भी प्रकार का रोजगार नहीं मिल पाता है तू उसका परिणाम यह होता है युवा अपराधिक घटनाओं में पुलिस ने लगते हैं अपने परिवार घर की चिंता में ऐसे काम करते हैं जो समाज के लिए काफी खतरनाक साबित होता है आजीविका कोई अन्य साधन न होने के कारण युवा अपनी राह से भटक जाता है.

चाहे वह किसी भी वर्क का युवा क्यों ना हो मैं अपने परिवार के लिए एक उम्मीद होता है एक माध्यम वर्ग परिवार पूरी उम्र की कमाई बच्चों की उच्च शिक्षा पर खर्च कर देते हैं जिसमें बच्चों का भविष्य उज्जवल हो जाए युवा वर्ग किसी भी देश की रीढ़ की हड्डी होती है यदि वह निराश है कमजोर है लाचार है तो देश भी आप सोच सकते हैं कि कितना लाचार होगा.

यह भी पढ़े : ग्यारह साल की उम्र में घर से भाग दिल्ली रेलवे स्टेशन पर उठाता था कचड़ा , अब है सेलिब्रिटी फोटोग्राफर 

कहा जाता है कि युवा ऊर्जा का भंडार होता है युवाओं की वजह से हम अपने देश को एक नई दिशा में ले जा सकते हैं देश को उनकी पूजा की सकारात्मक दिशा देखने की बहुत आवश्यकता होती है लेकिन ऐसा है नहीं युवाओं में देश के प्रति आक्रोश भरा हुआ है क्योंकि देश उनकी जरूरतों को पूरा नहीं कर पा रहा है युवा रोजगार की तलाश में देश छोड़कर बाहर जा रहे हैं और अपनी योग्यता बाहर के देशों में दिखा रहे हैं जिसका फायदा अपने देश को ना मिल कर दूसरे देशों को मिल रहा है

Follow Us