Education

CBSE के नए परीक्षा प्रणाली के लिए स्कूल तैयार, इसी महीने हुआ था स्पेशल स्कीम का ऐलान

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की ओर से जारी की गई दसवीं-बारहवीं की परीक्षा के लिए स्पेशल स्कीम के अनुसार नवंबर में फर्स्ट टर्म-1 एग्जाम होने हैं। बच्चों के बेहतर प्रदर्शन के लिए स्कूल इस एग्जाम में मल्टीपल च्वाइस क्वैंशचंस बैंक तैयार कर रहे हैं। बच्चों को बोर्ड के पैटर्न से परिचित कराने के लिए इस तरह के क्वैंशचंस बैंक स्कूलों द्वारा तैयार किए जा रहे है।

इस स्कीम के अनुसार इस बार बच्चों की परीक्षा ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन परीक्षा होनी है। फिलहाल तो यह कोरोना महामारी की तीसरी लहर पर निर्भर करेगा। स्कूल इससे पहले प्री-बोर्ड परीक्षा अपने स्तर पर कराएंगे जिसका फॉर्मेट मल्टीपल च्वाइस क्वैंशचन रखा गया है इसी फॉर्मेट में उनकी परीक्षा ली जाएगी।

मौसम विहार के डीएवी स्कूल की प्रिंसिपल वंदना कपूर ने बताया कि इस स्कीम के अनुसार फर्स्ट टर्म-1 एग्जाम नवंबर-दिसंबर 2021 के तक लिया जाना है। जिसके लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी गई है क्योंकि यह स्कीम बच्चों और स्कूल दोनो के लिए नई है।

परीक्षा में मल्टीपल च्वाइस प्रश्न पूछे जाने हैं। जिसके लिए स्कूल मल्टीपल च्वाइस क्वैंशचन बैंक बना रहे हैं। जिससे कि बच्चों को उससे परिचित कराया जा सके। प्री बोर्ड के जैसे ही हम सिंतबर में एक परीक्षा लेंगे जिसमें भी मल्टीपल च्वाइस प्रश्न ही रखे जाएंगे। बच्चों को तैयारी के लिए सैंपल क्वैंशचन बैंक भी दी जाएगी। जिससे कि छात्र – छात्राएं बोर्ड के द्वारा नवंबर में आयोजित होने वाली परीक्षा के लिए तैयार हो सकें।

दिलशाद गार्डन के अर्वाचीन इंटरनेशनल स्कूल की प्रिंसिपल स्वप्ना नायर ने कहा कि बोर्ड की स्कीम को देखने के बाद हमने 100% सिलेबस को दो हिस्सों में बांट दिया है। यह तैयारी हमने जुलाई से शुरू कर दी है। 50 % हिस्से में से मल्टीपल च्वाइस प्रश्न बेस्ड सैंपल पेपर बना रहे हैं। जिसमे नवंबर की परीक्षा शुरू होने से पहले परीक्षा ली जाएगी। जिससे बच्चे परीक्षा के नए पैटर्न से परिचित हो जाएं।

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सीबीएसई ने जुलाई के पहले हफ्ते में ही दसवीं-बारहवीं 2022 की बोर्ड परीक्षा के लिए स्पेशल स्कीम का ऐलान कर दिया था। इस स्कीम के अनुसार 50-50 % पाठ्यक्रम की दो बार में परीक्षा होनी है।

पहला टर्म-1 एग्जाम नवंबर-दिसंबर 2021 तक होना है। इसमें मल्टीपल च्वाइस बेस्ड ,एमसीक्यू और रीजनिंग के बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाएंगे। हर पेपर के लिए 90 मिनट का समय होगा। प्रश्न प्रत्र को सीबीएसई द्वारा ही स्कूलों को भेजा जाएगा। जहां छात्र पढ़ाई कर रहे परीक्षा भी वहीं होगी हैं। छात्रों को ओएमआर शीट पर उत्तर देने होगा। जिसे स्कूल प्रशासन द्वारा स्कैन करने के बाद सीबीएसई के पोर्टल पर अपलोड कर दिया जाएगा।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button