Indinomics

नए साल पर SBI बैंक ने खाताधारकों को दी खुशखबरी

अगर आपका एकाउंट भारतीय स्टेट बैंक में चल रहा है तो ये खबर आपके लिए खुशखबरी हो सकती है। दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देशोंनुसार, भारतीय स्टेट बैंक ने IMPS (तत्काल भुगतान सेवा) लेनदेन की सीमा को बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया है।

2 लाख रुपये से बढ़ाकर किया 5 लाख

बता दें कि आरबीआई ने अपनी अक्टूबर नीति में, आईएमपीएस लेनदेन की सीमा को पहले के 2 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया था। जिसके मद्देनजर SBI ने भी ये बदलाव किया है।

SBI लेगा 20 रुपये जीएसटी

हालांकि, SBI 2 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक के IMPS लेनदेन करने पर 20 रुपये और जीएसटी लेगा। दरअसल IMPS रीयल-टाइम फंड ट्रांसफर की सुविधा है, जिससे 24X7 तत्काल इंटरबैंक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सेवा मिलती है। इसे मोबाइल, इंटरनेट, एटीएम, एसएमएस जैसे कई चैनलों पर एक्सेस किया जा सकता है।

कई बैंक IMPS लेनदेन पर वसूलते हैं शुल्क

कई बैंक IMPS लेनदेन का उपयोग करने वाले ग्राहकों से शुल्क वसूलते हैं। हालांकि, कुछ बैंक ग्राहकों के खाते के प्रकार या इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से IMPS का उपयोग करने के आधार पर IMPS निःशुल्क प्रदान करते हैं। लेकिन, SBI उन बैकों में से है, जो इसके लिए चार्ज वसूलता है।

SBI, IMPS पर लेता है इतना चार्ज

SBI 1,000 रुपये तक के IMPS लेनदेन पर कोई चार्ज नहीं लेता है। 1,000 रुपये से 10,000 रुपये तक के IMPS लेनदेन पर 2 रुपये और GST लगती है। 10,000 रुपये से 1,00,000 रुपये तक के IMPS लेनदेन पर 4 रुपये और GST लगती है। 1,00,000 रुपये से 2,00,000 रुपये तक के IMPS लेनदेन पर 12 रुपये और GST लगती है। 2,00,000 रुपये से 5,00,000 रुपये तक के IMPS लेनदेन पर 20 रुपये और GST लगेगी। वहीं अब SBI ने 2 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक के IMPS लेनदेन के लिए नया स्लैब बनाया है। हालांकि, पुराने जो स्लैब हैं, उनमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: