PoliticsRajasthan

Rajasthan:सुलझती दिखती कांग्रेस की उलझने, आलाकमान जल्द करेगा फैसला

Rajasthan: पंजाब के बाद अब राजस्थान में कांग्रेस का सियासी संग्राम खत्म होने की उम्मीद है। सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gahlot) और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच चल रहे विवाद को खत्म कराने की जिम्मेदारी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने संभाली है।

Rajasthan में एक राष्ट्रीय पदाधिकारी के अनुसार हाईकमान उत्तर प्रदेश और पंजाब विधानसभा चुनाव को देखते हुए पायलट को खफा नहीं करना चाहता है। हाईकमान चाहता है कि अगले महीने से पायलट दोनों राज्यों का दौरा प्रारंभ करे। इससे पहले राजस्थान के विवाद का निस्तारण कर दिया जाएगा।

राष्ट्रीय नेताओं का एक समूह पायलट को फिर से अध्यक्ष बनाने के पक्ष में हैं, हालांकि वह खुद इसके लिए तैयार नहीं है। मौजूदा अध्यक्ष डोटासरा गहलोत सरकार में शिक्षामंत्री भी हैं । ऐसे में उन्हे अध्यक्ष पद से हटाकर मंत्रिमंडल में ही रखा जा सकता है। डोटासरा खुद भी मंत्री रहना चाहते हैं । इस पदाधिकारी ने बताया कि राजस्थान में सत्ता व संगठन में होने वाले बदलाव को लेकर आलाकमान ने प्रारूप तैयार कर लिया है।

तरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस प्रस्ताव को मंजूरी भी दे दी है । इसके तहत पायलट को राष्ट्रीय महासचिव बनाया जा सकता है। अब अगले कुछ दिनों में सोनिया गांधी मुख्यमंत्री गहलोत से टेलीफोन पर बात कर इस प्रारूप को लागू करने के लिए कहेगी ।

हाईकमान द्वारा किए गए फैसलों को लागू करने को लेकर समय सीमा तय की जाएगी । अशोक गहलोत के विश्वस्त एक केबिनेट मंत्री का कहना है कि सीएम मंत्रिमंडल में विस्तार करने को तैयार हैं,लेकिन जैसा पायलट चाहते हैं वैसा नहीं होगा । गहलोत अपनी मर्जी से मंत्रिमंडल में बदलाव करना चाहते हैं ।

जानकारी के अनुसार अशोक गहलोत प्रदेश प्रभारी अजय माकन के रवैये से नाराज हैं। गहलोत को दरकिनार कर माकन द्वारा विधायकों व संगठन के नेताओं से मिलने और मंत्रिमंडल विस्तार पर राजनीतिक नियुक्तियों के बारे में चर्चा करने से खफा है। वहीं माकन गहलोत के अड़ियल रूख से भी नाखुश है।

माकन की कई कोशिशों के बावजूद पायलट खेमे के विधायकों व नेताओं को सत्ता में भागीदारी देने के लिए गहलोत तैयार नहीं हैं। विवाद सुलझाने को लेकर पिछले चार माह में माकन गहलोत से तीन बार मुलाकात कर चुके हैं। लेकिन गहलोत पायलट खेमे को सरकार में ज्यादा प्राथमिकता देने को तैयार नहीं है । पिछले दिनों इस संबंध में माकन ने अपना पक्ष कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी व महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के समक्ष रखा है।

पायलट दिल्ली में सक्रिय

दिन पहले पायलट की संगठन महासचिव के.सी.वेणुगोपाल व माकन के साथ लंबी मुलाकात हुई । दोनों ने पायलट को आश्वासन दिया कि राजस्थान में फेरबदल की कमान खूद हाईकमान संभालेगा । सूत्रों के अनुसार दोनों नेताओं ने पायलट से 15 अगस्त तक राज्य से जुड़े सभी फैसले करने की बात कही है । जिला कांग्रेस कमेटियों के अध्यक्षों की घोषणा भी शीझा्र करने का वादा किया है ।

Rajasthan: 5 राज्यों में 100 से ज्यादा ATM Hack कर पैसे निकालने वाले गिरोह का खुलासा

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button