India Rise Special

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना

Pradhan Mantri Mudra Yojana : देशभर में कई लोग अपने सपनों को साकार करना चाहते हैं। हर कोई नौकरी पाकर खुश रहना चाहता है लेकिन वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं जो खुद ही अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं। अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए लोग जी तोड़ मेहनत करते हैं। इसी के साथ साथ कुछ ऐसे छोटे व्यवसाय वाले लोग होते हैं जो कि अपने व्यवसाय को बड़ा करना चाहते हैं और उसके लिए उनके पास रकम नहीं होती है। व्यवसायिक दिमाग वाले लोगों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बहुत ही अच्छी योजना यानी की स्कीम लेकर आए हैं। इस योजना का नाम है प्रधानमंत्री मुद्रा योजना ( Pradhan Mantri Mudra Yojana ) । यह योजना आत्मनिर्भर भारत के पैकेज के अंदर ही आती है। आज हम आपको इसी योजना के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि भारत के उद्यमियों यानी कि व्यवसायिक लोगों के लिए बहुत ही बढ़िया स्कीम है।

Pradhan Mantri Mudra Yojana

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : सीएम भूपेश बघेल का सराहनीय कार्य, लखनऊ के मेदांता अस्पताल के लिए रायपुर से भेजा ऑक्सीजन टैंकर 

क्या है प्रधानमंत्री मुद्रा योजना?

भारत बहुत सारे उद्यमियों का देश है। यहां पर कई लोग हैं जो कि अपने बलबूते पर अपना खुद का बिजनेस खड़ा करना चाहते हैं। इसीलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की शुरुआत की। इस योजना की मदद से कारोबारी अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं और साथ ही साथ अपना छोटा व्यवसाय बड़ा भी कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना 8 अप्रैल 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई थी। इस योजना के तहत सरकार लोगों को स्वरोजगार के लिए आसानी से लोन उपलब्ध करवाया करती है।मुद्रा (MUDRA) का अर्थ है – माइक्रो यूनिट डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी (Micro Unit Development & Refinance Agency)। इस योजना के तहत आपको ₹10 लाख तक का लोन सरकार दिलवा सकती है।

क्या है उद्देश्य और फायदा?

भारत में लघु व्यवसाय यानी कि छोटे कारोबारियों के लिए या फिर कारोबार को सपना देखने वाले लोगों के लिए अगर कोई सबसे बड़ा संकट होता है तो वह होता है पूंजी का। इससे मतलब यह है कि कारोबार के लिए सबसे ज्यादा वित्तीय सहायता की आवश्यकता होती है। इस क्षेत्र के अधिकतर हिस्से को औपचारिक स्रोतों से वित्तीय सहायता नहीं प्राप्त हो पाती है। इसी उद्देश्य से मुद्रा योजना का गठन किया गया।
मुद्रा योजना के दो मुख्य उद्देश्य है।पहला उद्देश्य, स्वरोजगार के लिए आसानी से लोन देना है और दूसरा, छोटे उद्यमों के जरिये रोजगार का सृजन करना। इसकी मदद से सरकार न केवल छोटे उद्यमों की मदद करेगी और साथ ही साथ उन लोगों के भी जो अपना व्यवसाय करना चाहते हैं बल्कि उन लोगों की भी मदद करेगी जो खुद ही रोजगार ढूंढ रहे हैं और उन्हें रोजगार की आवश्यकता है। अगर कोई इंसान अपना एक व्यवसाय शुरू करता है तो उसके लिए उसे कई लोगों की आवश्यकता पड़ती है जिससे साफ होता है किसकी वजह से रोजगार के भी कई क्षेत्र खुलेंगे।

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : सीएम भूपेश बघेल का सराहनीय कार्य, लखनऊ के मेदांता अस्पताल के लिए रायपुर से भेजा ऑक्सीजन टैंकर 


यही नहीं मुद्रा योजना (Pradhanmantri MUDRA Yojana) के और भी कई अधिक फायदे हैं। इस योजना के तहत लोगों को लोन प्रदान किया जाता है। इसमें सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें लोग बिना गारंटी के लोन ले सकते हैं। यही नहीं इसके अलावा लोन के लिए कोई भी और किसी भी प्रकार की प्रोसेसिंग फीस यह चार्ज नहीं लिए जाते हैं।
इसकी मदद से गरीब इंसान ही अपना व्यवसाय खोल सकता है और यदि वह सीमित समय तक अपना लोन चुकाने में असमर्थ रहता है तो वह अपना लोन का समय 5 साल तक बढ़ा सकता है। फिलहाल इस योजना के लिए हर बैंक में ब्याज दरें अलग-अलग है लेकिन आपको बता दें की आम तौर पर बैंको में न्यूनतम ब्याज दर 12% होती है।

कैसे होते हैं लोन?

भारत की सरकार ने इस योजना के लिए काफी तैयारियां करके रखी हुई है। इस योजना के अंतर्गत सरकार लोगों को तीन प्रकार के लोन प्रदान करती है। यह तीन लोन कुछ इस प्रकार हैं –

  1. शिशु लोन
  2. किशोर लोन
  3. तरुण लोन
    इन तीन लोन में शिशु मुद्रा लोन के तहत व्यवसायों के लिए 50,000 रुपये तक के कर्ज दिए जाते हैं। किशोर लोन की बात करे तो वहीं, किशोर मुद्रा लोन के तहत 50,000 से 5 लाख रुपये तक का कर्ज दिया जाता है।आखिरी तरुण मुद्रा लोन के तहत कारोबारी 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का कर्ज
    ले सकते हैं।
    इन लोन पर भारत के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ब्याज दर पर 2% की छूट देने की भी घोषणा की है। निर्मला सीतारमण के अनुसार इस योजना के अंतर्गत लोगों को 2% की छूट दी जाएगी और इसके लिए उन्होंने 1500 करोड रुपए उपलब्ध करवाने की घोषणा की है।
    कैसे कर सकते हैं कर्ज़ के लिए आवेदन?

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : सीएम भूपेश बघेल का सराहनीय कार्य, लखनऊ के मेदांता अस्पताल के लिए रायपुर से भेजा ऑक्सीजन टैंकर 

अगर आप कोई छोटा-मोटा व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं और इसके लिए आपको कर्ज की आवश्यकता है तो आप इस योजना का फायदा उठा सकते हैं और इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। इसमें आवेदन करने के लिए आपको अपने कारोबार से जुड़ी हुई जानकारी देनी होगी और साथ ही साथ कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज भी देने होंगे। जानकारी और दस्तावेज दोनों लेकर आपको अपनी सबसे नजदीकी बैंक में जाकर जमा करवाने होंगे।
बैंक में जाने के बाद आपसे आपके व्यापार के बारे में जानकारी ली जाएगी। हो सकता है आपसे व्यापार से संबंधित प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाकर लाने के लिए भी कहा जाए। इसके बाद आपके व्यापार के आधार पर आपका लोन मंजूर किया जाएगा।

इस योजना के लिए आप वेबसाइट से एप्लीकेशन फॉर्म भी भर सकते हैं। इसके लिए–

-वेबसाइट पर जा कर लोन एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड करें। वेबसाइट का लिंक यहां दिया है– http://www.mudra.org.in/

– इसमें शिशु लोन के लिए फॉर्म अलग है, जबकि तरुण और किशोर लोन के लिए एक ही फॉर्म दिया गया है।

–एप्लीकेशन फॉर्म भरने के बाद उसमें पूछी गई जानकारी भरिए। लोन एप्लीकेशन फॉर्म में मोबाइल नंबर, आधार नंबर, नाम, पता आदि की जानकारी मांगी जा सकती है।

–2 पासपोर्ट फोटो लगाएं की आवश्यकता होगी।

– फॉर्म भरने के बाद प्रिंट लेकर किसी भी सरकारी या प्राइवेट बैंक में जाएं और सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद बैंक में जमा कर दें।

– वहां बैठा हुआ बैंक मैनेजर आपसे आपके व्यवसाय के बारे में कुछ सवाल कर सकता है जिसके बाद उसी अनुसार आपका लोन मंजूर किया जाएगा।

  • कितना हुआ काम?*
    प्रधानमंत्री की इस मुद्रा योजना के तहत कई लोग अपनी व्यवसाय करने में सफल हुए हैं। इसी के साथ कई लोगों को इसका काफी फायदा भी हुआ है।फिलहाल तो कई लोगों को इसके बारे में जानकारी ना होने की वजह से इसका फायदा उठाने में सक्षम नहीं रहे। जहां एक तरफ कोरोना वायरस की वजह से लगी हुई लॉकडाउन ने कई लोगों की कमर तोड़ दी थी वहीं दूसरी तरफ इस स्कीम ने कई लोगों की मदद भी की है।
Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button