उत्तर प्रदेश

पंचायत चुनाव : पथराव और फायरिंग के बीच तीसरे चरण में 73.5 फीसदी हुआ  मतदान, तीन की गई जान 

कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बावजूद उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में भी ग्रामीण मतदाताओं में जबरदस्त उत्साह दिखा। सोमवार को कानपुर देहात, मेरठ, मुरादाबाद व अमेठी समेत प्रदेश के 20 जिलों में कई स्थानों पर हिंसक वारदातों व मतपेटियां लूटने की घटनाओं के बीच लगभग 73.5 प्रतिशत वोट डाले गए। कोविड प्रोटोकाल की धज्जियां उड़ने और मतदान कर्मियों की मनमानी की शिकायतें भी मिलती रही। अधिकतर स्थानों पर निर्धारित समय छह बजे के बाद भी वोट डालने का काम चलता रहा। 3.5 लाख से अधिक उम्मीदवारों का भविष्य मतपेटियों में बंद हो गया।

यह भी पढ़ें : यूपी : रज्जू भैया राज्य विवि के साढ़े चार लाख छात्रों को लगेगा नि:शुल्क कोरोना टीका 

पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में 73,663 उम्मीदवार निर्विरोध चुने जा चुके हैं. तीसरे चरण में जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान और ग्राम सभा सदस्य के पदों की 2.14 लाख सीटें हैं. राज्‍य निर्वाचन आयोग से मिली जानकारी के अनुसार दोपहर एक बजे तक शामली में 39.41 प्रतिशत, मेरठ में 38.66 प्रतिशत, मुरादाबाद में 38.02, पीलीभीत में 39.35 प्रतिशत, कासगंज में 38.73 प्रतिशत, फिरोजाबाद में 39.67 प्रतिशत, औरैया में 38.29 प्रतिशत, कानपुर देहात में 33.00 प्रतिशत और जालौन में 34.00 प्रतिशत मतदान हुआ.

आयोग के अनुसार, 15 अप्रैल को संपन्न हुए पहले चरण के चुनाव में 71 प्रतिशत मतदान हुआ था जबकि 19 अप्रैल को हुए दूसरे चरण के चुनाव में 71 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को 25 मई तक पंचायत चुनाव की प्रक्रिया पूरी कराने के निर्देश दिए हैं. कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर राज्य निर्वाचन आयोग ने मार्च में निर्देश दिए थे कि पंचायत चुनाव के दौरान अधिकतम पांच लोग ही घर-घर जाकर चुनाव प्रचार कर सकते हैं. राज्य के उप निर्वाचन आयुक्त वेद प्रकाश वर्मा ने बताया कि अपर जिला अधिकारियों की अगुवाई में तीन सदस्य समितियां गठित की गई हैं जो आयोग द्वारा जारी दिशा निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित कराएंगी. मतदान के दौरान कोविड-19 संबंधी नियमों का सख्ती से पालन कराया जा रहा है.

यह भी पढ़ें : कहीं टीका की न आ जाए अब कमी, स्टाॅक में है 6.70 करोड़ वैक्सीन 

ड्यूटी के दौरान सिपाही की मौत
हमीरपुर के मजगवां थाना क्षेत्र में चित्रकूट में तैनात सिपाही अरविंद कुमार दीक्षित की ड्यूटी के दौरान मौत हो गई। अरविंद को सांस लेने में शिकायत के बाद महोबा जिले के एक अस्पताल में ले जाया गया था, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

Follow Us

Related Articles

Back to top button