सोशल मीडिया का प्रयोग आज के टाइम पर कई ज्यादा अधिक हो गया है छोटे बच्चे से लेकर एक बुजुर्ग तक सोशल मीडिया की जंजीरों में लिपटे नजर आते हैं. दिन के 24 घंटों में से युवा अपना 8 घंटा लगभग सोशल मीडिया पर बताता है ऐसे में सोशल मीडिया ऑनलाइन शॉपिंग ( online shopping ) का एक अच्छा माध्यम बन गया है. ऑनलाइन शॉपिंग ( online shopping ) करने के लिए सोशल मीडिया पर कई विज्ञापन चलते हैं जो युवाओं को और अन्य ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं ऑनलाइन खरीदारी करने से ऑफलाइन खरीदारी जितना झंझट नहीं होता है, इसलिए ज्यादातर लोग ऑनलाइन खरीदारी करना ही पसंद करते हैं साथ ही ऑनलाइन खरीदारी करने में सामान घर तक डिलीवर हो जाता है जिससे मेहनत कम लगती है.

online shopping

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

लेकिन यह भी बात सच है कि सोशल मीडिया पर सबसे अधिक युवा ही एक्टिव होते हैं अगर आप 10 लोगों में से पूछेंगे तो 10 में से 9 लोग आपको यह जवाब जरूर दे देंगे कि हां हम सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं लेकिन युवाओं के पास स्मार्टफोन से नीचे कोई फोन नहीं होता है युवा सोशल मीडिया का प्रयोग करते ही करते हैं वह बात अलग है कि कुछ प्लेटफार्म का इस्तेमाल ना करते हैं लेकिन 1- 2 प्लेटफार्म का इस्तेमाल युवा जरूर करते.

हाल ही में एक रिपोर्ट सामने आई थी जिसमें इस बात का जिक्र किया गया था कि सबसे ज्यादा खबरें सोशल मीडिया के जरिए ही पढ़ी जाती है, हर न्यूज़ चैनल टीवी चैनल या अखबार सोशल मीडिया के जरिए ही अपनी खबरों को साझा करना पसंद करता है क्योंकि युवा सोशल मीडिया पर ज्यादा सक्रिय होते हैं सोशल मीडिया को लेकर एक और बात कही जाती है कि आज का युवा सोशल मीडिया से प्रभावित है यह सच भी है यह 100 फीसद हकीकत नहीं है.

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

अगर युवाओं के विचार और सूचनाओं के मामले में बात की जाए तो यह सच साबित होगा कि सोशल मीडिया युवाओं को प्रभावित करता है लेकिन जब बात खरीदारी यानी शॉपिंग की आती है तो यह फार्मूला सोशल मीडिया का विफल हो जाता है फैशन के मामले में युवा हमेशा ही अलग करने के लिए तैयार रहते हैं और इस बात की पुष्टि हाल ही में एक सर्वे में की गई है.

की ऑनलाइन खरीदारी जिन का प्रचार सोशल मीडिया पर चलता है वह युवाओं का मूड बदलने में असफल रहते हैं. दरअसल अमेरिका के मैनहैटन स्थित एल आई एम कॉलेज द्वारा एक शोध किया गया है, जिसके नतीजे में यह साबित हुआ है कि अधिकांश बार उत्पादों का ज्ञापन युवाओं को अपनी और आकर्षित करने के लिए किया जाता है खासकर फैशन परिधान और एक्सरसाइज की खरीदारी के मामले में केवल 7 फीसद युवा ही ब्लॉगर्स और vlogers पर दी गई सलाह को गंभीरता से लेते हुए खरीदारी करते हैं. बाकी के बचे हुए 93 C7 का तरीका सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे किसी उत्पाद से प्रभावित नहीं होता है.

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

वही 18 से 35 साल की उम्र के लोग नए तरीकों को ब्रांड से ज्यादा महत्व देना पसंद करते हैं भारत के अंदर आज के युवाओं की सोच अपने माता-पिता से काफी अलग होती है पर इसका प्रभाव उनकी खरीददारी में भी साफ देखने को मिलता है आज के युवाओं को पसंद है आम फैशन से अलग हटकर कुछ ऐसा पहनना जिसे देखकर लोग उन्हें कॉपी करें. उनकी कोशिश यह होती है कि जो उत्पाद उनके पास है वो किसी और के पास बिल्कुल भी ना हो.

रिसर्च करने वालों की माने तो प्रचार करने वालों को अपने तरीके में बदलाव करने की आवश्यकता है अगर वह युवाओं को विज्ञापनों से लुभाना चाहते हैं, अगर प्रतिस्पर्धा के बीच बड़े ब्रैंड से युवाओं को दिखाना हो तो उन्हें अपनी मार्केटिंग रणनीति और विज्ञापन के तरीके को बदलने की बहुत जरूरत है इसके लिए कंपनियों को एक ऐसा दिखाई देने वाला उत्पाद से भी बचना होगा।

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

अमेरिका के साथ-साथ कई विकसित देशों में सोशल मीडिया को खरीदारी के तौर तरीके प्रभावित करने वाला माना जाता है लेकिन सिर्फ इतना ही नहीं यहां के लोग फीडबैक के अलावा ब्लॉकर्स तथा वीडियो संदेशों से भी उत्पादों के प्रति अपनी राय तय करते हैं लेकिन फैशन उत्पादों पर इन सभी का प्रभाव न के बराबर होता है।

Follow Us