SpiritualTrending

नवरात्रि 2022: आज है मां कालरात्रि का रूप, जानें मंत्र और पूजा विधि….

हीं कालरात्रि श्रींकराली चक्लींकल्याणी कलावती। कालमाताकलिदर्पध्नीकमदींशकृपन्विता।।

Navratri 2022: शारदीय नवरात्रि की सप्तमी तिथि के दिन मां दुर्गा के सातवें सिद्ध स्वरूप माता कालरात्रि की विधि विधान से पूजा की जाती है। इस दिन मां दुर्गा के दिव्य स्वरूप की पूजा करने से सभी प्रकार की बाधाएं दूर हो जाती हैं। साथ ही यह मान्यता भी प्रचलित है कि माता कालरात्रि की पूजा करने से सभी प्रकार की आसुरिक शक्तियों का विनाश हो जाता है। माता को सभी सिद्धियों की देवी के रूप में भी जाना जाता है। यही कारण है कि इस दिन तंत्र-मंत्र से भी इनकी विशेष पूजा की जाती है। शास्त्रों में इस बात का भी वर्णन मिलता है कि माता कालरात्रि के मंत्रों का शुद्ध उच्चारण करने से भूत-प्रेत बाधाओं से मुक्ति मिलती है और घर से इस प्रकार की नकारात्मक शक्तियां भाग जाती हैं। आइए जानते हैं माता कालरात्रि का स्वरूप, पूजा विधि और ,मंत्र।

माता कालरात्रि का स्वरूप…

शास्त्रों में बताया गया है कि माता कालरात्रि के तीन नेत्र और चार भुजाएं हैं। प्रत्येक हाथों में मां ने वरद मुद्रा, अभयमुद्रा, लोहे के धातु से बना कांटा, और तलवार धारण किया है। मां गधे पर सवार होकर अपने भक्तों की प्रार्थना सुनने आती हैं। माता को गहरा नीला रंग सर्वाधिक प्रिय है।

माता कालरात्रि की पूजा विधि…

नवरात्रि महापर्व की सप्तमी तिथि के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान-ध्यान करें और पूजा स्थल की अच्छे से सफाई करें। इसके बाद पूजा स्थल को गंगाजल से स्वच्छ करें। फिर मां को फूल, सिंदूर, कुमकुम, रोली, अक्षत इत्यादि अर्पित करें। माता कालरात्रि को नींबू से बनी माला अर्पित करें और गुड़ से बनें पकवान का भोग लगाएं। इसके बाद घी का दीपक जलाएं और मंत्रों का जाप करें। फिर मां कालरात्रि की आरती उतारें। आरती से पहले दुर्गा चालीसा और दुर्गा सप्तशती का पाठ करना बिलकुल ना भूलें। आरती के बाद माता से अनजाने में हुई गलतियों के लिए क्षमा प्रार्थना करें।

मंत्र-…..

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी॥
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा।
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी॥

स्तोत्र मंत्र का करें जाप…

हीं कालरात्रि श्रींकराली चक्लींकल्याणी कलावती। कालमाताकलिदर्पध्नीकमदींशकृपन्विता।।
कामबीजजपान्दाकमबीजस्वरूपिणी।
कुमतिघन्कुलीनार्तिनशिनीकुल कामिनी ।।
क्लीं हिं श्रींमंत्रवर्णेनकालकण्टकघातिनी।
कृपामयीकृपाधाराकृपापाराकृपागमा ।।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: