Jammu & Kashmir

जम्मू कश्मीर मे पूरी धार्मिक आस्था के साथ मनाया गया नागपचंमी का त्योहार

नागपंचमी का त्योहार पूरे धार्मिक उत्साह और भक्ति के साथ मनाया गया। घर में पारंपरिक तरीके से नागपूजा की गई। बाबा सुरगल के कई स्थानों पर भंडारे का आयोजन किया गया। कई जगहों पर जट्टर के बाद नाग देवता परिवार की समृद्धि के लिए प्रार्थना की गई। कोरोना सावधानी के चलते पिछले वर्षों के मुकाबले दुकान का आयोजन थोड़ा कम हुआ, लेकिन कोरोना सावधानी के स्थान पर विशेष पूजा अर्चना की गई। सुबह भर भक्तों का तांता लगा रहा। लोग जल अभिषेक करने और दूध चढ़ाने के लिए शिव मंदिरों में पहुंचे। नागाओं के बर्मी शहरों के अलावा, भक्तों ने ग्रामीण इलाकों में बाबा सुरगल देव मंदिर में भी श्रद्धांजलि अर्पित की।

शिव मंदिरों के अलावा, बाबा सुरगल के देवता के स्थान पर भंडारा भी आयोजित किया गया था। सूर्योदय के बाद महिलाएं व्रत और परंपरागत रूप से अपने घर में नाग की पूजा करती हैं। इस दौरान कच्चे दूध, घी और चीनी के मिश्रण से बने अमृत को चढ़ाने के लिए सुबह से ही बरमी नागस्थान में भक्तों का तांता लगा रहा।भक्तों ने हल्दी, रोली, चावल और फूल चढ़ाकर नाग देवता की पूजा की। भंडारे का आयोजन न्यू प्लॉट बाबा सुरगल शिव मंदिर में किया गया। वहीं शिव मंदिर न्यूप्लाट, राधा कृष्ण मंदिर बिल्लू मंदिर पंजतीर्थी, गोल मार्केट, अकालपुर, रंजन आदि में भंडारे का आयोजन किया गया। घरों में रसोई घर की सफाई के बाद कागज पर और दीवार पर सांप की आकृति बनाकर महिलाओं की पूजा की जाती है। नाग की प्रतिमा पर चंदन का टीका, दूध और लावा चढ़ाकर पूजा-अर्चना कर परिवार के कल्याण की कामना की गई। हर जाति और वर्ग के लिए त्योहार मनाने का तरीका अलग था।

परंपरागत रूप से, कई घरों में महिलाएं नमकीन खीर और मीठा दलिया व्यंजन के साथ तैयार करती हैं और परिवार को प्रसाद के रूप में देती हैं। सभी देवताओं की पूजा के अलावा कुछ पूजा स्थलों पर जट्टर भी किए गए। कल कई जगहों पर लोगों ने सर्पदंश से बचाव के लिए प्रार्थना की। बाबा सर्गल के सेवक अनिल शर्मा ने कहा कि नागपंचमी के दिन यदि सर्प दोष दूर कर दिया जाए तो इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है। यदि कुण्डली में रहने वाला कल सर्प योग में रहता हो और केतु शुभ हो तो जीवन में सुख की प्राप्ति होती है। इसके बुरे प्रभावों के कारण व्यक्ति जीवन भर समस्याओं से जूझता रहता है। भक्तों ने कहा कि यह नागों की भूमि है। उसके ऊपर उनकी आज्ञा और सेवा से ही सुख संभव है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: