बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में कई जिंदगी फंसी हुई है जिनमें से कुछ को तो इलाज मिल पा रहा है और कुछ को इलाज तो क्या भोजन भी नसीब नहीं हो पा रहा है, लेकिन पटना के अंदर कोरोना वायरस संक्रमण के संकट के बीच कई लोग को रोना से जूझ रहे मरीजों की मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं. ऐसे लोगों में से ही एक है पटना की माँ-बेटी ( mother daughter )

 mother daughter

यह भी पढ़े : उत्तराखंड : कैबिनेट बैठक में फैसला, हरिद्वार में शाही स्नान के बाद लागू होगा कोविड कर्फ्यू 

हर व्यक्ति अपनी अपनी क्षमता के हिसाब से लोगों की मदद करते दिख रहे हैं आपको बता दें पटना के जाने-माने विमेंस कॉलेज में फिजिक्स की हेड अपराजिता कृष्णा लोगों की मदद कर रही है अपराजिता उनकी बेटी कृतिका भी लोगों की मदद के लिए आगे है, वह भी एक प्राइवेट कॉलेज में प्रोफेसर है। दोनों मां-बेटी कोविड संक्रमित मरीजों के घर तक मुफ्त में खाना पहुंचाती हैं।

यह भी पढ़े : उत्तराखंड : कैबिनेट बैठक में फैसला, हरिद्वार में शाही स्नान के बाद लागू होगा कोविड कर्फ्यू 

दोनों मां बेटी के कामों की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ की जा रही है, इस बात में कोई शक नहीं है की बढ़ती कालाबाजारी और समाज द्रोहियों के बीच अभी भी इंसानियत जिंदा है. एक समाचार अखबार के अनुसार कृष्णा ने कहा कि मुझे खाना बनाने का शौक है इस महामारी के दौर में यह मेरे लिए चिकित्सकीय काम कर रहा है। मेरे परिवार के कुछ लोग कोरोना से संक्रमित हो गए थे, उनके लिए मैं खाना बनाती थी और ड्राइवरे से खाना भिजवाती थी।

Follow Us