आजकल माइग्रेन ( migraine ) जैसी बीमारियों की समस्या बढ़ती जा रही है ऐसे में लोगों को अपना ध्यान रखना बहुत आवश्यक हो चुका है आपको बता दें कि माइग्रेन में सर बहुत दर्द करता है, यह समस्या ज्यादातर खराब दिनचर्या अनुचित खानपान और तनाव से ज्यादा बढ़ता है। भारत के अंदर माइग्रेन की समस्या सामान्य हो गई, माइग्रेन का दर्द का 1 घंटों तक होता है कई बार तो यह बर्दाश्त से बाहर हो जाता है। इस दर्द को सहन करना आसान काम नहीं है।

migraine

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

जब मरीज को माइग्रेन की समस्या शुरू होती है ऐसे वक्त में पीड़ित को मितली और उल्टी भी आती है माइग्रेन आभासी और वास्तविक दो प्रकार के ही होते हैं जबकि माइग्रेन होने के कई कारण होते हैं इनमें मानसिक तनाव, नसों में खिंचाव, थकान, कब्ज ,नशा ,खून की कमी, सर्दी, जुखाम प्रमुख लक्षण होते हैं।

लेकिन ऐसा नहीं है कि इस बीमारी का इलाज संभव नहीं है मेडिकल साइंस में भी इस बीमारी का इलाज मौजूद है लेकिन लापरवाही बरतने पर यह बीमारी काफी खतरनाक साबित हो सकती है. आयुर्वेदा में भी इस बीमारी का उपचार आसानी से मिल जाता है लेकिन अगर आप अपने जीवन में योगा को शामिल करते हैं तो आपको और ज्यादा आसानी हो सकती है इस बीमारी से उभरने में.

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

योग विशेषज्ञों का मानना है कि माइग्रेन की समस्या को दूर करने के लिए सूर्य नमस्कार जैसे योगासन बहुत फायदेमंद होते हैं, योग मुद्रा शशांक आसन, पवनमुक्तासन, सर्वांगासन, हलासन, मस्त्यांसन भी काफी लाभदायक होते हैं।

अगर आपको भी माइग्रेन की समस्या काफी सताती है तो आप अपने दिनचर्या में योग को शामिल करके बड़ी आसानी से इस समस्या पर काबू पा सकते हैं तो रोजाना इन योगासन को जरूर करें।

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

मस्त्यासन

मस्त्यासन दो शब्दों से उत्पन्न हुआ है पहला शब्द है मस्त्य और दूसरा है आसन, मस्त्या का अर्थ होता है मछली और आसन का मतलब होता है मुद्रा, आसान भाषा में बोले तो मछली की मुद्रा में रहना मस्त्यासन कहलाता है, योग विशेषज्ञों का माने तो माइग्रेन की समस्या में इस आसन से काफी आराम मिलता है।

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

इस आसन करने के लिए आपको ब्रह्मपाल जमीन पर पीठ के बल लेट जाना है इसके बाद अपने दोनों पैरों को बैठने की मुद्रा में समेट कर अपने कंधों पर रख लें अब धीरे-धीरे अपने धन को ऊपर की ओर उठाएं इस मुद्रा में कुछ पल के लिए रुके इसके बाद फिर अपनी पहली अवस्था में आ जाए।

सेतुबंध आसन

इस योग आसन को करने से शरीर में रक्तचाप नियंत्रित रहता है जबकि माइग्रेन में भी आराम मिलता है इस आसन को करने से तनाव और चिंता से भी मुक्ति मिलती है इससे खून का प्रभाव तेज गति में मस्तिष्क में सही से होने लगता है जिससे माइग्रेन की समस्या दूर हो जाती है।

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ : MLA  बृजमोहन ने उठाया कोविड मरीजों के इलाज और सुविधा देने की जिम्मेदारी  

इस आसन को करने के लिए बराबर की जमीन पर दरी बिछाकर लेट जाएं इसके बाद धीरे-धीरे अपने पैरों को जमीन पर टीका कर कमर को ऊपर उठाएं और हाथों को जमीन पर टिका दें, इस आसन को करने में ध्यान रखें कि इस मुद्दा में आपका आधा धर जमीन पर रहे इस योग को रोजाना करने से आपको माइग्रेन की समस्या में काफी सुधार मिलेगा।

Follow Us