SpiritualTrending

भगवान विश्वकर्मा जयंती आज, इस तरह करें पूजा और मंत्र का जाप

मान्यताओं के अनुसार विश्वकर्मा ने इंद्रलोक, द्वारिका नगरी, स्वर्गलोक, हस्तिनापुर, लंका, पुष्पक विमान, विष्णु चक्र

भगवान विश्वकर्मा जयंती इस वर्ष 17 सितंबर को मनाई जाएगी। इस त्योहार को विश्वकर्मा पूजा भी कहा जाता है। प्रभु विश्वकर्मा दुनिया के पहले इंजीनियर हैं। उन्होंने देवी-देवताओं के लिए अस्त्र-शस्त्र से लेकर भव्य भवन का निर्माण किया था। मान्यताओं के अनुसार विश्वकर्मा ने इंद्रलोक, द्वारिका नगरी, स्वर्गलोक, हस्तिनापुर, लंका, पुष्पक विमान, विष्णु चक्र, त्रिशूल आदि का निर्माण किया है।
पूजा विधि…
भगवान विश्वकर्मा की पूजा से सुख और समृद्धि में वृद्धि होती है। ऐसे में जयंती के दिन इंजीनियर, शिल्पकार, बुनकर आदि को विधि-विधान से विश्वकर्मा जी की पूजा करनी चाहिए। सुबह जल्द उठकर स्नान कर औजारों, मशीन आदि की सफाई करें। फिर भगवान की प्रतिमा की पूजा करें और पुष्प, फल, प्रसाद अर्पित करना चाहिए। साथ ही मंत्र (ऊं विश्वकर्मणे नमः) का जप जरूर करना चाहिए। भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से व्यापार में वृद्धि होती है। इस दिन तामसिक भोजन यानी मांस और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही अपने व्यापार और रोजगार को बढ़ाने के लिए इस दिन गरीब और असहाय लोगों को दान देना चाहिए।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: