कुंवर सचदेव एक भारतीय इंटरप्रेन्योर हैं जिन्होंने 1998 में Su–Kam Power Systems Ltd. की शुरुआत की थी । वह Su–Vastika के भी मैनेजिंग डायरेक्टर और सी. ई. ओ. हैं जो की एक बिजली समाधान कंपनी है । बिना किसी डिग्री और डिप्लोमा के उन्होंने एक छोटी सी दुकान से अपने इस बिजनेस की शुरुआत कर आज एक ऊंची छलांग लगा ली है और सभी के लिए एक प्रेरणा बन गए हैं । उनकी Su–Kam Power Systems Ltd. “मेक इन इण्डिया” का एक अच्छा उदाहरण बन गया है ।

प्रारंभिक जीवन
कुंवर सचदेव का जन्म 1962 में दिल्ली के एक साधारण परिवार में हुआ था । उनके पिता जी भारतीय रेलवे में सेक्शन ऑफिसर का काम करते थे , जिससे उनके घर की आर्थिक स्थिति मजबूत नहीं थी । 5 वीं कक्षा तक वे प्राइवेट स्कूल में पढ़े लेकिन आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण उनके पिताजी ने उन्हें सरकारी स्कूल में डाल दिया था ।

यह भी पढ़ें : महेंद्र सिंह धोनी टिकट कलेक्टर से कैसे बने महान क्रिकेटर 

कुंवर के साथ उनके 3 और भाई भी हैं । बात तब की है जब कुंवर 10 वीं कक्षा में थे और वह अपने बड़े भाई के साथ घर घर जा के पेन बेचने का काम करते थे । पेन बेचने से उन्हें जो भी पैसे मिलते उससे वह अपना खर्चा चलाते और पढ़ाई करे थे । लेकिन कुछ समय बाद जब उतने पैसों में उनका गुजारा करना मुस्कील होने लगा , तब उन्होंने केवल लगाने का काम सीखा और घर घर जा के केबल लगाने लगे । कुछ ही समय में उनके पास 10,000 रुपए की धन राशि इकट्ठा हो गई थी और केबल लगाने का काम करते समय उन्होंने इस काम को बारीकी को अच्छे से समझ और सीख गए थे ।

Su–Kam Power Systems Ltd. की शुरुआत
1998 में उन्होंने केबल टी. बी. के काम को बंद कर दिया ताकि वह Su–Kam Power Systems Ltd. ki शुरुआत कर सकें । उन पास एक अच्छा विचार तो था परंतु उसपे कैसे काम करना है यह उन्हे नही मालूम था , इसलिए उन्होंने कुछ अच्छे इंजिनियर्स से मदद मांगी और एक छोटी सी दुकान से इन्वर्टर बनाने का काम शुरू किया ।

इस काम की उन्हें अच्छी समझ न होने के कारण लोगों ने उन्हें बहुत समझाया और रोका भी की वे इसमें कभी सफल नहीं हो पाएंगे लेकिन वह अपनी जिद पर अड़े रहे और उन्होंने मेहनत करना कभी नही छोड़ा । आखिर में उनकी मेहनत रंग भी लाई उन्होंने बहुत अच्छा इन्वर्टर बनाना शुरू कर दिया था जिसे लोग बहुत पसंद भी करने लगे थे ।

सन 2000 में एक बच्चे को इन्वर्टर छूने के कारण करेंट लग गया था । जिससे उन्हें बहुत दुख हुआ और ऐसा कभी किसी और के साथ न हो इसलिए उन्होंने प्लास्टिक की बॉडी का इन्वर्टर बनाने का फैसला लिया । जिसके बाद Su–Kam Power Systems Ltd. विश्व की सबसे पहली प्लास्टिक बॉडी इन्वर्टर बनाने वाली कंपनी बन गई । जिसके चलते कुंवर के इस आविष्कार को इंडिया टुडे ने “इनोवेशन ऑफ द डिकेड” का नाम दिया ।

नया आविस्कार करने का शौख रखने वाले कुंवर को इस बात का एहसास हुआ की जब सभी इलेक्ट्रॉनिक्स टच स्क्रीन है और वाई फाई से कनेक्ट है तो होम एप्लायंस क्यों नही जिसके बाद उन्होंने सारे होम यू. पी. एस. को भी तो टच स्क्रीन बना दिया और उसमें वाई फाई की सुविधा भी उपलब्ध कराई ।

Su–Kam Power Systems Ltd. को आज एक भारतीय मल्टीनेशनल कॉरपोरेशन माना जाता है । इस कंपनी ने भी बाकी दुनिया की बड़ी और मशहूर 500 विकसित कंपनियों की तरह विकास किया है ।
भारत के लिए यह एक गर्व की बात है की अफ्रीका और नेपाल जिसे देशों में लोग Su–Kam पर चिनाइज और अमेरिकन जैसी बड़ी कम्पनियों से ज्यादा भरोसा करते हैं । और इस कंपनी को वहां पर भी कई अवार्ड भी मिले हैं ।

सम्मान
भारत में सोलर टेक्नोलॉजी के निर्माण में उनके योगदान के कारण उन्हें इंडिया टुडे द्वारा समाचार पत्रिका में “सोलर मन ऑफ इंडिया” कहा गया है ।
इंटरप्रेन्योर इंडिया अवॉर्ड्स में कुंवर सचदेव को “इंटरप्रेन्योर ऑफ द ईयर 2011” से सम्मानित किया जा चुका है । ई. एफ. वाई. टाइम्स के अनुसार यह पुरस्कार भारत में उद्यमिता के विकास में योगदान देने के वाले प्राप्तकर्ताओं और नवप्रवर्तकों को पहचानता है । उन्होंने भारत के सबसे सम्मानित उद्यमियों में से एक होने का पुरस्कार जीता है ।

किताबों में जिक्र
कुंवर सचदेव को बिस्टसेलिंग लेखिका रश्मि बंसल की पुस्तक “कनेक्ट द डॉट्स” में दिखाया गया है । इस पुस्तक में 20 स्व–निर्माता भारतीय उद्यमियों की जीवन कहानी की खोज की गई है , जो सफल व्यवसाय बनाने के लिए बिना किसी औपचारिक व्यवसायिक प्रशिक्षण के मामूली पृष्ठभूमि से उठे हैं ।
हर्ष पमनाई द्वारा “बूमिंग ब्रांड” में कुंवर सचदेव की सफलता की कहानी बताई गई है । इसमें यह बताया गाया है की कैसे उन्होंने Su–Kam Power Systems Ltd. की स्थापना की और कैसे उन्होंने उद्योग का निर्माण किया ।
पोरस मुंशी की किताब “मेकिंग ब्रेकथ्रू इनोवेशन हैपन : हाउ 11 इंडियंस पुल्ड ऑफ द इंपॉसिबल” में भी कुंवर सचदेव की कंपनी शामिल थी जिसने भारत मे इन्वर्टर इंडस्ट्री बनाई ।

टी. वी. पर
पत्रकार ऋचा अनिरुद्ध ने आई. बी. एन. खबर शो “जिंदगी लाइव” के दौरान कुंवर सचदेव का साक्षात्कार लिया गया था ।
उन्हें ई. टी. नाउ के शो “टी. टाइम्स” में भी साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था जहां उन्होंने अपनी सफलता के बारे में लोगों को बताया था ।

कुंवर का कहना है “अगर आपके अंदर लगन है तो आप किसी भी तरह के सपने को पूरा करने का सामर्थ्य रखते हैं । बिजनेस के बारे में सिर्फ किताबों में पढ़ के जानकारी लेना काफी नहीं होता , बिसिमेस का बारे m जाने के लिए इंसान को मार्केट में खुद उतरना पड़ता है । विदेशों में बिजनेस के कोर्स के लिए मार्केट एक्सपीरियंस मांगा जाता है और हमारे भारत मे बच्चो की रैंक देखी जाती है ।

यह भी पढ़ें : युवाओं के साथ-साथ सोशल मीडिया कंपनी भी रखें मर्यादा 

एक अच्छा बिजनेस मैन बनने से पहले आपको इंडिपेंडेंट और रिस्पॉन्सिबल बनना बहुत जरूरी है । हमारे देश के युवाओं के पास आइडिया तो बहुत है लेकिन उसे एक्जीक्यूट करने का कोई प्लैन नहीं है । मेरे पास को बचे अपना आइडिया लेके आते है जो की मुझे भी बहुत पसंद आते हैं लेकिन वह पैसे न होने का रोना रोते हैं जिसके मैं कुछ नहीं कहता । क्योंकि मैं चाहता हु की वो पैसा कमाएं और फिर अपने बिजनेस को शुरू करें । अगर अपने लगन होगी तो किसी भी तरह की दिक्कत आपको अपने सपने को पूरा करने से नहीं रोक पाएगी ।

Follow Us