Spiritual

पूजा-पाठ में धूप दीप और अगरबत्ती जलाने का खास महत्त्व, जानिए

पूजा में अगरबत्ती और अगरबत्ती का विशेष महत्व है। बिना जलाए पूजा अधूरी मानी जाती है। कहा जाता है कि पूजा के दौरान अगरबत्ती जलाने से घर से नकारात्मकता दूर होती है और सकारात्मकता बढ़ती है। पूजा में इस्तेमाल होने वाली अगरबत्ती औषधीय पौधों से बनाई जाती है। जब यह जलता है तो इसकी गंध से कीड़े-मकोड़े दूर हो जाते हैं। साथ ही घर में माहौल खुशनुमा महसूस होता है।

आइए जानते हैं पूजा के दौरान अगरबत्ती जलाने के और क्या फायदे हैं

पूजा के दौरान अगरबत्ती जलाने से मन को शांति मिलती है। तो मन भी वहां प्रसन्नता का अनुभव करता है। इसलिए पूजा के समय अगरबत्ती जलानी चाहिए।

पूजा के दौरान अगरबत्ती जलाने से घर में नकारात्मकता दूर होती है और सकारात्मकता बढ़ती है। शास्त्रों के अनुसार अगरबत्ती जलाने से घर का वातावरण अच्छा रहता है। इसलिए अगरबत्ती जलानी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि पूजा के दौरान धूप जलाने से भगवान प्रसन्न होते हैं। शास्त्रों के अनुसार धूप की सुगंध देवताओं को बहुत प्रिय होती है। इससे उन्हें खुशी मिलती है और उनकी कृपा बरसती है।

अगरबत्ती आपके तनाव को कम करने में भी अच्छी भूमिका निभाती है। अगर आप किसी भी तरह के तनाव से गुजर रहे हैं तो भगवान की आरती के दौरान सुबह-शाम अगरबत्ती जलाएं। ऐसा करने से कुछ ही मिनटों में आपका तनाव दूर हो जाएगा। घर में अगरबत्ती जलाने से तन, मन और घर में शांति आती है। साथ ही रोग और दुख दूर होते हैं। घरेलू विवाद और दुर्घटना- दुर्घटना नहीं होती है। साथ ही घर में वास्तु दोष भी नष्ट होते हैं। सूर्य का प्रकाश ग्रहों और नक्षत्रों के दुष्प्रभाव को भी कम करता है।

वैसे तो बाजार में अगरबत्ती मिल जाती है। लेकिन अगर आप घर पर उदबत्ती बनाना चाहते हैं, तो आप चंदन, कोढ़, नाखून, राल, गुड़, चीनी, अमृत, जटामांसी, लघु और क्षौद्र को समान मात्रा में मिलाकर उदबत्ती बना सकते हैं। यह बाजार में उपलब्ध रेडीमेड अगरबत्तियों की तुलना में अधिक प्रभावी है। साथ ही इसकी सुगंध से मन और मस्तिष्क को शांति मिलती है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: