Spiritual

Jitiya Vrat 2021 : जानें कब है जितिया व्रत, क्या है इसका महत्त्व और पूजन विधि…

जितिया व्रत 2021 : हिंदी पंचांग के अनुसार आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को जितिया व्रत का उपवास रखा जाता है। इस व्रत के दिन माताएं अपने पुत्र की दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। इस व्रत के दौरान महिलाएं फल जल आज ग्रहण नहीं किया करती। इसे एक कठिन व्रत तो मैं से एक माना जाता है। इस दिन का महत्व यह है कि पूजा के समय गंधर्व राजकुमार जीमूत वाहन से जुड़ी पौराणिक कथा को सुना जाता है जिसे जितिया व्रत कहा जाता है। इस वर्ष जितिया व्रत 29 सितंबर यानी बुधवार को पड़ रहा है।

जितिया व्रत 2021 तिथि…

हिंदू कैलेंडर के अनुसार 29 सितंबर दिन मंगलवार को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि साईं काल 6:00 बजे के बाद से आरंभ हो रही है। आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी बुधवार 29 सितंबर साईं काल 8:00 बजे समाप्त होगी इसलिए जितिया व्रत 29 सितंबर को रखा जाएगा।

कहा जाता है कि गंधर्व राजकुमार जी हूं तो वहां नागवंश की रक्षा के लिए स्वयं को गरुड़ का भोजन बनने के लिए संघर्ष किया था जिससे उन्होंने संघ छोड़ना मकना की जीवन को बचाया था इससे इनके चलते पक्षीराज गरुड़ बहुत प्रसन्न हुए थे और नागों का अपना भोजन ना बनाने का वचन दिया था। इसी के बाद से जितिया व्रत रखा जाने लगा। इस पूजा में गंधर्व राजकुमार जीमूत वाहन की पूजा करने का विधान है। इस व्रत करने से पुत्र की दीर्घायु सुखी और निरोग रहते हैं।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: