Gadgets & TechnologyIndia Rise SpecialIndinomicsSocial Media / Viral

Jio-Facebook Deal: जियो-फेसबुक डील के साथ शुरू हुआ मार्क जुकरबर्ग-मुकेश अंबानी का दोस्ताना

द इंडिया राइज टीम
फेसबुक ने जियो में 5.7 बिलियन डॉलर (43,574 करोड़ रुपये) का निवेश का ऐलान किया है। फेसबुक रिलायंस जियो की 9.99 फीसदी हिस्सेदारी लेकर 3 करोड़ छोटे किराना दुकानदारों को जियोमार्ट प्लेटफॉर्म से जोड़ेगी और इसका जरिया बनेगा व्हाट्सएप। यह रिलायंस रिटेल के नए कॉमर्स बिजनेस को तेजी से बढ़ाएगा। जियोमार्ट प्लेटफॉर्म (JioMart platform) पर रिटेल कारोबार बढ़ाने के लिए डील होगी। इससे WhatsApp पर छोटे कारोबारियों को सपोर्ट मिलेगा। जियो प्लेटफार्म्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, जो तमाम प्रकार की डिजिटल सेवाएं प्रदान करती है। इसके ग्राहकों की संख्या 38.8 करोड़ से अधिक है। JioMart के जरिए रिलायंस रिटेल, अमेजन और फ्लिपकार्ट की टक्कर का प्रॉडक्ट तैयार कर रही है।
zuckerberg_ambani_
रिलायंस के मुताबिक छोटे किराना कारोबारियों को JioMart के साथ पार्टनरशिप का मिलेगा फायदा मिलेगा। भारत में टेक्नॉलजी सेक्टर में यह एफडीआई (FDI) के तहत अबतक का सबसे बड़ा निवेश है। फेसबुक और WhattsApp का इस्तेमाल भारत के बड़े हिस्से में किया जाता है। साथ ही, भारत इस समय एक बड़े डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन के दौर में है और Jio इस समय करोड़ों भारतीय और छोटे बिजनेसमैन के लिए कारोबार आसान करने में मदद कर रहा है।

जियो प्लेटफार्म्स, रिलायंस रिटेल लिमिटेड और व्हाट्सएप के बीच डील
आरआईएल ने कहा कि इस निवेश के साथ जियो प्लेटफार्म्स, रिलायंस रिटेल लिमिटेड और व्हाट्सएप के बीच भी एक वाणिज्यिक साझेदारी समझौता हुआ है। इसके तहत व्हाट्सएप के इस्तेमाल से जियोमार्ट प्लेटफार्म पर रिलायंस रिटेल के नए वाणिज्यिक कारोबार को बढ़ावा मिलेगा और व्हाट्सऐप पर छोटे कारोबारियों को सहायता दी जाएगी।जियोमार्ट ग्राहकों तक पहुंचने में पारंपरिक दुकानदारों और किराना स्टोर की मदद करता है।  आरआईएल ने कहा कि इस सौदे के लिए अभी नियामक और अन्य मंजूरियां मिलनी बाकी हैं।   इस सौदे के लिए मॉर्गन स्टेनली ने एक वित्तीय सलाहकार के रूप में और एजेडबी एंड पार्टनर्स और डेविस पोल्क एंड वार्डवेल ने कानूनी सलाहकार के रूप में अपनी सेवाएं दीं।

इस डील के बाद मार्क जुकरबर्ग कहते हैं कि यह विशेष रूप से अभी महत्वपूर्ण है, क्योंकि छोटे व्यवसाय हर अर्थव्यवस्था के लिए अहम होते हैं और उन्हें उन्हें मदद की आवश्यकता होती है। भारत में 6 करोड़ से अधिक छोटे व्यवसाय हैं और लाखों लोग नौकरियों के लिए उन पर निर्भर हैं।

इस डील के पीछे की बड़ी वजह
आरआईएल द्वारा अपने कर्ज को कम करने के प्रयासों के तहत फेसबुक के साथ यह सौदा किया गया है। इसके लिए आरआईएल अपने व्यवसायों में रणनीतिक भागीदारी की तलाश कर रही है। समूह अपने तेल-रसायन कारोबार में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए सऊदी अरामको के साथ बातचीत भी कर रही है। समूह ने अगले साल तक कर्ज मुक्त होने का लक्ष्य तय किया है।  जियो में हिस्सेदारी के लिए कथित तौर पर गूगल से भी बातचीत की जा रही थी, लेकिन उन बातचीत के नतीजे के बारे में जानकारी फिलहाल नहीं है। ताजा सौदा जियो और फेसबुक दोनों के लिए फायदेमंद है क्योंकि चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार है।

जल्द आ सकता है सुपर ऐप
फेसबुक और रिलायंस इंडस्ट्रीज मिलकर एक सुपरऐप ला सकते हैं। यह एक मल्टी-पर्पज ऐप्लिकेशन होगा, जिस पर यूजर्स ना सिर्फ चैटिंग कर सकेंगे बल्कि इसके जरिए रिलायंस रिटेल के स्टोर्स से ग्रॉसरी खरीद सकेंगे, ajio.com से शॉपिंग कर सकेंगे और जियोमनी के जरिए पेमेंट भी कर सकेंगे।

वॉट्सऐप और जियोमार्ट साथ करेंगे काम
रिलायंस ने बीते साल 31 दिसंबर को ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट को टक्कर देने के लिए अपने नए ई-कॉमर्स वेंचर जियो मार्ट को लॉन्च किया था। इस निवेश के बाद फेसबुक और वॉट्सऐप यूजर्स को जियोमार्ट पर लाना आसान होगा। जियोमार्ट एक ऑनलाइन ग्रॉसरी डिलिवरी प्लेटफॉर्म है, जिसके जरिए यूजर्स लोकल किराना दुकानदारों से ऑनलाइन सामान मंगा सकेंगे। दुकानदार जियोमार्ट पर रजिस्टर कर पाएंगे और उन्हें वॉट्सऐप के जरिए ग्राहकों से ऑर्डर मिलेंगे। जियोमार्ट पर डिजिटल लेन-देन के लिए वॉट्सऐप का इस्तेमाल किया जाएगा।

बहुत बड़ा यूजरबेस
जून 2019 तक फेसबुक के भारत में 24 करोड़ से ज्यादा ऐक्टिव यूजर्स थे। यह किसी भी देश में फेसबुक के सबसे अधिक यूजर्स हैं। वहीं, फेसबुक के स्वामित्व वाले मेसेजिंग ऐप वॉट्सऐप के भी भारत में 40 करोड़ और इंस्टाग्राम के भारत में 8 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। वहीं, रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड के 38 करोड़ 80 लाख ग्राहक हैं। इस तरह फेसबुक और जियो की साझेदारी से एक बड़ा यूजरबेस तैयार हो जाता है। इसके जरिए ये दोनों कंपनियां मिलकर टिक टॉक जैसी किसी भी प्रतिद्वंदी प्लेटफॉर्म को टक्कर दे पाएंगे।

वॉट्सऐप पे, जियो मनी
इन दिनों ऑनलाइन पेमेंट का भी काफी क्रेज है। सभी कंपनियां अपने ऐप्स में इस फीचर को जोड़ रही हैं। रिलायंस जियो के पास ऑनलाइन पेमेंट के लिए JioMoney ऐप है, वहीं वॉट्सऐप भी डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म Whatsapp Pay लाने वाली है। वॉट्सऐप-पे को भारत में मंजूरी मिल जाने के बाद यह जियो मनी के साथ मिलकर गूगल पे, ऐमजॉन पे और पेटीएम जैसी कंपनियों को कड़ी टक्कर दे सकेंगे।

डील से डिजिटल इंडिया को मिलेगा बढ़ावा
चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार है। 2022 तक भारत में इंटरनेट यूजर्स की संख्या बढ़कर 85 करोड़ तक पहुंच जाने की संभावना है। माना जा रहा है कि इस डील से भारत में डिजिटल इंडिया अभियान को भी तेजी मिलेगी। फेसबुक के साथ पार्टनरशिप पर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा जियो और फेसबुक के बीच तालमेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने में मदद करेगा।’

यह 10 बातें भी जानिए
1-इस डील के बाद जियो में फेसबुक की 9.99 फीसदी हिस्सेदारी होगी। फेसबुक और रिलायंस जियो के बीच यह डील 6.22 अरब डॉलर यानी 43,574 करोड़ रुपये में हुई है। भारत की किसी टेक्नोलॉजी कंपनी में यह अब तक का सबसे बड़ा निवेश है।
2- इस निवेश के बाद जियो प्लेटफॉर्म्स, रिलायंस रीटेल लिमिटेड (रिलायंस रीटेल) और व्हाट्सएप के बीच भी एक व्यावसायिक पार्टनरशिप समझौता हो गया है। इसके अनुसार रिलायंस रीटेल अपना न्यू कॉमर्स व्यवसाय व्हाट्सएप की मदद से जियोमार्ट के प्लेटफॉर्म पर कर सकेगा।
3-देश के करोड़ों किसान और व्यापारी ठीक उसी तरह जियोमार्ट से जुड़ सकेंगे जिस तरह वे अमेजन, फ्लिपकार्ट, ग्रोफर्स और बिगबास्केट के साथ जुड़े हैं।
4-जियोमार्ट के जरिए बिजनेस कर रहे किसान व्हाट्सएप पेमेंट के जरिए पेमेंट ले और दे सकेंगे। जियोमार्ट पर डिजिटल पेमेंट के लिए व्हाट्सएप पेमेंट का इस्तेमाल होगा।
5-फेसबुक के लिए दुनिया का सबसे बड़ा बाजार भारत है। भारत में फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप के 40 करोड़ यूजर्स हैं। ऐसे में जियो के साथ यह डील फेसबुक के लिए फायदे वाली है।
6-जियोमार्ट को कुछ महीने पहले ही अमेजन और फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों के मुकाबले पेश किया गया है, लेकिन पूरे भारत में इसकी लॉन्चिंग अभी बाकि है।
7-व्हाट्सएप ने साल 2018 में भारत में छोटे व्यापारियों की मदद के लिए व्हाट्सएप बिजनेस एप लॉन्च किया था। जियो के साथ पार्टनरशिप के बाद व्हाट्सएप के बिजनेस एप में भी कुछ बदलाव किए जा सकते हैं।
8-किसी भी अन्य देश के मुकाबले व्हाट्सएप के भारत में अधिक यूजर्स तो हैं लेकिन कंपनी को अभी तक इस एप से कमाई नहीं हो रही है। अपनी कमाई के लिए व्हाट्सएप ने डिजिटल पेमेंट सर्विस व्हाट्सएप पे शुरू किया है लेकिन फिलहाल इसकी टेस्टिंग ही चल रही है। इस डील से व्हाट्सएप पेमेंट से कंपनी की कमाई का रास्ता साफ हो गया है।
9यह डील जियोमार्ट को अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ एक मजबूत प्रतियोगी बनाने में मदद करेगा। इस डील से ऑनलाइन ग्रॉसरी डिलिवरी कंपनियों जैसे बिगबास्केट और ग्रोफर्स की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
10-रिलायंस के मुताबिक इस डील का फायदा भारत के 6 करोड़ माइक्रो, छोटे और मंझोले व्यवसायों, 12 करोड़ किसानों, 3 करोड़ छोटे दुकानदारों और इंफॉर्मल सेक्टर के लाखों छोटे और मंझोले व्यवसायों को होगा

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: