Spiritual

इंदिरा एकादशी कल, पितृपक्ष में श्राद्ध के लिए रखें व्रत ….

पितृपक्ष में पढ़ने वाली एकादशी को इंदिरा एकादशी कहते हैं एकादशी का व्रत करने से पितरों को उत्तम कद की प्राप्ति होती है।

अयोध्या: सनातन धर्म में एकादशी का विशेष महत्व होता है। साल के 12 माह प्रत्येक महीने में दो बार एकादशी पड़ती। पितृपक्ष में पढ़ने वाली एकादशी को इंदिरा एकादशी कहा जाता है धार्मिक मान्यता के मुताबिक इंदिरा एकादशी का बड़ा महत्व होता है। इस बार इंदिरा एकादशी 21 सितंबर यानी कल है इतना ही नहीं इंदिरा एकादशी का व्रत एकादशी की व्रत की तुलना में बेहद खास होता है।

इंदिरा एकादशी को लेकर ज्योतिषाचार्य पंडित कल की राम ने कहा कि सनातन धर्म के लोग किसी भी कारणवश पित्र पक्ष में श्राद्ध तर्पण नहीं कर पाते तो उनके लिए इस अद्भुत और व्यवस्था कर रखी। पितृपक्ष में पढ़ने वाली एकादशी को इंदिरा एकादशी कहते हैं एकादशी का व्रत करने से पितरों को उत्तम कद की प्राप्ति होती है।

मार्क जुकरबर्ग को झटका ! इस साल आधे से कम हुई संपत्ति…

क्या है इंदिरा एकादशी का महत्व

इंदिरा एकादशी भगवान विष्णु का पूजा विधि विधान पूर्वक करना चाहिए। इस एकादशी का व्रत करने से पितरों के श्राद्ध करने के फल के बराबर होता है सारे एकादशी में इंदिरा एकादशी का व्रत बहुत महत्वपूर्ण है।

जानिए इंदिरा एकादशी का शुभ मुहूर्त

इंदिरा एकादशी का शुभ मुहूर्त 20 सितंबर से शुरू होगा 21 सितंबर दिन बुधवार को 11:34 पर समाप्त होगा। इंदिरा एकादशी का व्रत 21 सितंबर को रखा जाएगा और 22 सितंबर को उसका पारण करना है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: