फतेहपुर

फतेहपुर डीएम-लउभा के अभियान का असर, 625 करोड़ के MOU साइन

फतेहपुर।

जिलाधिकारी फतेहपुर श्रुति और लघु उद्योग भारती के जिलाध्यक्ष सतेंद्र सिंह के ग्लोबल इन्वेस्टर्स ग्रामीण जागरूकता कार्यक्रम का बड़ा असर देखने को मिला है। यही कारण है कि अब तक 625 करोड़ रुपए के एमओयू (समझौता पत्र) साइन हुए हैं। इन एमओयू के साइन होने में सीडीओ सूरज पटेल का महत्वपूर्ण मार्गदर्शन मिला। साथ ही उद्योग उपायुक्त अंजनीश प्रताप सिंह ने भी बड़ी मेहनत की और लउभा के साथ ब्लॉकों में जाकर जागरूकता अभियान चला रहें हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को वन ट्रिलियन इकोनॉमी बनाने के लिए लगातार मेहनत कर रहें हैं। सीएम की इस मेहनत में लघु उद्योग भारती और जिलाधिकारी फतेहपुर श्रुति ने बड़ा प्रयास किया। इसके लिए लउभा ने जिले के सभी ब्लॉकों में ग्रामीणों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम का प्रस्ताव रखा। जिससे ग्रामीणों को जीआईएस से जोड़ा जा सके और ग्रामीण क्षेत्रों से भी निवेश हो सके। मामले पर जिलाधिकारी श्रुति ने तत्काल कदम उठाया। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी सूरज पटेल को सभी ब्लॉकों में कार्यक्रम आयोजन कराने के लिए साधन-संसाधन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। साथ ही उद्योग उपायुक्त अंजनीश प्रताप सिंह को सरकार की औद्योगिक नीति की जानकारी जन-जन तक पहुंचाने के निर्देश दिए। ब्लॉक स्तर पर हुए आयोजन में लघु उद्योग भारती के जिलाध्यक्ष सतेंद्र सिंह, महासचिव अमित गुप्ता, कोषाध्यक्ष उदय भान साहू, सदस्य फारूक अहमद, वीरेंद्र सिंह सहित कई सदस्यों ने भाग लिया। यहाँ पर जागरूकता कार्यक्रम करते हुए उद्योग उपायुक्त अंजनीश प्रताप सिंह, सहायक उपायुक्त उद्योग प्रबल प्रताप सिंह ने कई योजनाओं के बारे में बताया।

 

इन उद्यमियों ने किए एमओयू साइन-

रामहित सिंह ने 25 करोड़, फारूक अहमद खान ने 45 करोड़, अभिषेक सिंह ने 25 करोड़, अभिषेक पटेल ने 5 करोड़, अनिल कुमार जयसवाल ने 10 करोड़, निर्मल शंकर गुप्ता ने 10 करोड़, ऋषि कात्याल ने 49 करोड़, हिमांशु कुमार ने 5 करोड़, पूमिल जैन ने 45 करोड़, नीरज गुप्ता ने 50 करोड़, संध्या देवी ने 5 करोड़, फैजान ने 10 करोड़, मुदित मिश्रा ने 20 करोड़, रामेश्वर दयाल ने 50 करोड़, विनय कुमार गुप्ता ने 10 करोड़, रिचा देवी ने 5 करोड़, मीरा गुप्ता ने 8 करोड़, मयंक श्रीवास्तव ने 50 करोड़, अर्चना देवी ने 5 करोड़, सीता देवी ने 5 करोड़, विकास अग्रवाल ने 25 करोड़, प्रांजल उमराव ने 15 करोड़, संजय कुमार गुप्ता ने 20 करोड़, अविनाश चंद्र ने 5 करोड़, राजेश कुमार केसरवानी ने 7 करोड़ और कई ऐसे निवेशक हैं जिन्होंने एक से 5 करोड़ का निवेश किया है। इस तरह सरकार के साथ कुल 538 करोड़ रुपए के एमओयू साइन हुए हैं, जिनसे जनपद में हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा।

लउभा जिलाध्यक्ष सतेंद्र सिंह ने कहा, अभी और भी एमओयू होने की संभावनाएँ हैं। ऐसे में बड़े स्तर रोजगार के अवसर बनने के साथ ही प्रतिव्यक्ति आय में भी बढ़ोतरी के रास्ते खुलेंगे। जिलाध्यक्ष ने जिलाधिकारी श्रुति की जमकर प्रशंसा की है। उन्होंने कहा, जीआईएस कार्यक्रम का उद्घाटन स्वयं डीएम ने किया था। ऐसे में कार्यक्रम को सफल होना ही था।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: