Spiritual

Hal Shashthi 2022: जानें कब है हल षष्ठी व्रत, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि 17 अगस्त बुधवार को 6:30 बजे से शुरू होकर

Hal shashti 2022: हरछठ हर वर्ष भाद्रपद मास की सस्ती को मनाया जाता है। इस बार यह व्रत 17 अगस्त दिन बुधवार को पढ़ना है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान श्री कृष्ण के बड़े भाई बलदाऊ का जन्म हुआ था। इस त्यौहार को विभिन्न राज्यों में हरछठ और ललही छठ के नाम से जाना जाता है। इस दिन महिलाएं अपने पुत्र की लंबी उम्र और सुख समृद्धि के लिए व्रत रखती है। मानता है कि इस दिन व्रत रखने से पुत्र के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

76th Independence Day: पीएम मोदी ने सम्बोधन में स्वंत्रता सेनानियों को किया याद, कहा – ”कर्तव्य पथ ही उनका जीवन पथ”

तो आइए जानते हैं हाय षष्टि व्रत का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि 17 अगस्त बुधवार को 6:30 बजे से शुरू होकर अगले दिन 18 अगस्त रात 9:00 बजे तक रहेगी।

प्रात काल स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें। हरछठ की पूजा किए बिना महिलाएं पानी तक नहीं पी सकती। या व्रत मूल रूप से पुत्रवती महिलाएं करती है। घर की दीवार पर हर छठ माता का चित्र बनाकर बताएं उनका संघार करती हैं मां को 6 तरह के दानों और पूड़ी का भोग लगाएं। इस दिन मिट्टी के कुलड़िया को से में सभी दानों को भरा जाता है। पूजा के बाद हर छठ माता की कथा पढ़ी जाती है और आरती की जाती है वही व्रती महिलाएं पूजा के बाद पारण कर भोजन ग्रहण कर सकती हैं।

ऐसी मान्यता है कि हर्षद में श्री कृष्ण के बड़े भाई बलराम जी के सत्र की पूजा की जाती इसलिए मान्यता के अनुसार इस दिन महिलाएं हाल से जीती हुई चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन महिलाएं तालाब में उगे हुए फलों या चावल खाकर व्रत करती हैं। गाय के दूध या दूध से बनी हुई कोई चीज का सेवन नहीं किया जाता बल्कि भैंस के दूध और उसके दूध से तैयार किए गए घी का प्रयोग करना शुभ मानते हैं।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: