Indinomics

आने वाले दिनो के लिए बन रहे पीएसयू के लिए अच्छे संकेत

सितंबर तिमाही के नतीजों को देखें तो यह पीएसयू बैंकिंग सेक्टर के लिए अच्छा संकेत है। नतीजे बताते हैं कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की सेहत में सुधार हो रहा है। बैंकों के पास गैर-निष्पादित आस्तियों (एनपीए) का मुद्दा अब घट रहा है। बैंक बैलेंस पहले ही क्लियर किया जा रहा है। मांग बढ़ने से ऋण वृद्धि में सुधार हुआ है। साथ ही, पीएसयू बैंकों को और अधिक लाभ की उम्मीद है क्योंकि मैक्रो स्थितियों में सुधार हो रहा है और देश की अर्थव्यवस्था अब रिकवरी मोड में है। कुछ अच्छे पीएसयू बैंक के शेयर बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने इस संबंध में रिपोर्ट दी है. ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल का कहना है कि स्वस्थ प्रावधानों के कारण पिछले कुछ वर्षों में पीएसयू बैंकों की बैलेंस शीट अधिक लचीली हो गई है। अब बैलेंस शीट धीरे-धीरे साफ हो रही है। एनपीए से संबंधित समस्याएं कम हुई हैं और संपत्ति की गुणवत्ता में सुधार हो रहा है।

ब्रोकरेज हाउस के मुताबिक, कॉरपोरेट एनपीएल साइकिल बॉटम आउट हो गया है और क्रेडिट कॉस्ट धीरे-धीरे कम होने की उम्मीद है। उन्हें पहले से बेहतर मुनाफा होने की उम्मीद है। कुल मिलाकर, FY24E तक RoA / RoE में 0.8% / 13.2% सुधार होने की उम्मीद है। वहीं, निकट भविष्य में इस सेक्टर का मुनाफा कई गुना बढ़ सकता है। इसके अलावा एसबीआई, बीओबी और यूनियन बैंक के शेयर अच्छा रिटर्न दे सकते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक बैंकों की संपत्ति की गुणवत्ता में सुधार हो रहा है। वित्त वर्ष 2011 में जीएनपीए 15 फीसदी से गिरकर 2018 में 9.5 फीसदी हो गया। बैलेंस शीट मजबूत हुई है। पीसीआर वित्त वर्ष 18 में 47% से बढ़कर वित्त वर्ष 21 में 68% हो गया है।

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: