EducationIndia Rise SpecialIndinomicsUttar Pradesh

Good News: एप बनेगा गुरू, युवाओं को सिखाएगा अलग-अलग राज्यों की भाषा

द इंडिया राइज
देश के युवाओं को भाषाई दृष्टि से एक दूसरे के साथ जोड़ने की अनूठी पहल की जा रही है। इस पहल के अंतर्गत  एक राज्य के व्यक्ति को दूसरी राज्य की क्षेत्रीय भाषा में छोटे-छोटे वाक्य सिखाए जा सकते हैं। अगर पंजाब में रहने वाला व्यक्ति मराठी भाषा में आम बोलचाल के छोटे वाक्य जान सकेगा। सरकार  की ओर अभी इस मोबाइल एप का नाम उजागर नहीं किया गया।
mobile app
ऐसे ही तमिलनाड में रहने वाला व्यक्ति मराठी, पंजाबी या हरियाणवी भाषा के छोटे वाक्य इस ऐप के माध्यम से सीख सकता है। गौरतलब है कि स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के विभिन्न लोगों को क्षेत्रीय भाषाओं के जरिए एक दूसरे से जोड़ने की बात कह चुके हैं। रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल होने वाले छोटे-छोटे वाक्य विभिन्न भाषाओं में इस ऐप के माध्यम से सिखाए जा सकेंगे। यह एप विभिन्न भाषाओं में एक दूसरे का कुशलक्षेम पूछने वाले वाक्य एवं ऐसे शब्दों का ज्ञान उपलब्ध कराएगा जो किसी नए व्यक्ति के लिए अनजान शहर में महत्वपूर्ण होते हैं।

इस एप के माध्यम से मिलने वाली जानकारी का उपयोग विभिन्न सरकारी कार्यकलापों में भी किया जा सकता है। साथ ही इस अनूठे ऐप की मदद से भारत की विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं का प्रसार और विस्तार भी होगा। यह एप भारत सरकार की विभाग-मायगोव के द्वारा तैयार किया जा रहा है। माइगोव  देश के नागरिकों के लिए विशिष्ट ऑनलाइन प्लेटफॉर्म मुहैया कराता है।

मायगोव डॉट इन के मुख्य कार्यकारी व वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अभिषेक सिंह ने कहा विभिन्न भाषाओं में 1000 वाक्य सीखने के लिए एक मोबाइल एप विकसित कर रहे हैं। माइगोव विभिन्न विभागों के वेबिनार होस्ट कर सकता है और उनके कार्यक्रमों के बारे में सूचना का भी प्रसार कर सकता है।

कोविड-19 की मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर नवोन्मेषी तरीकों का उपयोग कर सरकार के एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम को आगे बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।  जिसके अंतर्गत यह एप विकसित करने की बात भी सामने रखी गई।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: