Lifestyle

बढ़ते Obesity को कंट्रोल करने के लिए रोजाना करें ये दो योगासन

गलत खानपान, खराब लाइफस्टाइल और डिप्रेशन के चलते मोटापा कॉमन समस्या बन गई है। आधुनिक समय में हर चौथा व्यक्ति मोटापे (Obesity) से परेशान हैं। इस दिक्कत से छुटकारा पाने के लिए लोग तरह-तरह के जतन करते हैं।

मोटापे (Obesity) से छुटकारा पाने के लिए कुछ लोग डाइटिंग करते हैं, तो कुछ लोग घंटों जिम में वर्कआउट करते हैं। हालांकि, जंक फूड खाने से परहेज नहीं करते हैं। इस वजह से बढ़ते वजन को काम करने में मदद नहीं मिलती है। विशेषज्ञों की मानें तो बढ़ते वजन को कम करना आसान काम नहीं होता है।

इसके लिए व्यक्ति को प्रयत्नशील रहना पड़ता है। लापरवाही बरतने इसका उल्टा असर पड़ सकता है और वजन घटने के बजाय बढ़ने लगता है। इसके लिए सही दिनचर्या, उचित खानपान और तनाव से दूरी आवश्यक है। साथ ही रोजाना वर्कआउट और योग जरूर करें।
अगर आप भी बढ़ते मोटापे से परेशान हैं और कंट्रोल करना चाहते हैं, तो रोजाना 2 योगासन अवश्य करें। कई शोधों में खुलासा हो चुका है कि योग के माध्यम से बढ़ते वजन को कंट्रोल किया जा सकता है।

आइए, इसके बारे में जानते हैं-

क्या कहती है शोध
रिसर्च गेट में पब्लिश एक रिसर्च में दावा किया गया है कि योग करने से मोटापे को कंट्रोल किया जा सकता है। इस रिसर्च की मानें तो पश्चिमोत्तानासन और कपालभाति करने से बढ़ते वजन को आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है। इस शोध में 60 लोगों को शामिल किया गया था।

उन्हें दो टीमों में बांट दिया गया। पहली टीम को रोजाना डाइट में 1600 कैलोरी लेने की राय दी गई। दूसरी टीम को कैलोरी सीमित करने के साथ-साथ डेली पश्चिमोत्तानासन और कपालभाति करने के लिए कहा गया।

इस शोध के जरिए खुलासा हुआ है कि खानपान में परहेज और रोजाना पश्चिमोत्तर और कपालभाति करने से बढ़ते वजन को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। इस वजह से हेल्थ विशेषज्ञों ने बढ़ते वजन को कंट्रोल करने के लिए रोजाना कपालभाति और पश्चिमोत्तानासन करने की सलाह दी हैं।

कैसे करें पश्चिमोत्तानासन
इसके लिए फ्लैट भूमि पर चटाई बिछाकर दंडासन मुद्रा में बैठ जाएं। इस मुद्रा में पैर आगे की ओर, शरीर और रीढ़ की हड्डी एक सीध में रहती है। वहीं, दोनों हाथ ज़मीन पर रहते हैं।

अब शरीर के पिछले हिस्से को आगे की ओर ले जाएं यानी खींचे। साथ ही पैरों पर टिकाने की कोशिश करें। यह एक मुश्किल योगासन है। इसके लिए पश्चिमोत्तानासन करने से पहले योग विशेषज्ञ से जरूर सलाह लें। अगर हो सके तो कुछ दिनों तक ट्रेनर की निगरानी में पश्चिमोत्तानासन करें।

कैसे करें कपालभाति
कपालभाति दो शब्दों कपाल अर्थात ललाट और भाति अर्थात चमक होता है। इस योग में सांस को लंबे समय तक रोकने की कोशिश की जाती है। साथ ही पेट और फेफड़ों की मदद से सांस को बाहर छोड़ा जाता है। इससे फेफड़ों की शुद्धि होती है। इस योग को करने से पाचन और श्वसन तंत्र मजबूत होता है।

आप भी चाहते हैं बढ़ते वजन से छुटकारा, तो ध्यान से पढ़िए इस रिपोर्ट को

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button