सब इंस्पेक्टर मुरली ताती शहीद हो गए। इसका पहले से ही खतरा था। छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों ने SI मुरली ताती (Murali Tati) की किडनैप करने के बाद शुक्रवार रात उनकी हत्या कर दी और शव को सड़क पर फेंककर चले गए। इसी महीने तीन अप्रैल को मुठभेड़ के दौरान अगवा किए गए जम्मू के जवान राकेश्वर मन्हास को रिहा कर सुर्खियां बटोरने वाले नक्सलियों ने बस्तर की माटी के पुत्र मुरली के साथ निर्दयता बरती। सब इंस्पेक्टर मुरली तबीयत खराब होने के कारण बीजापुर स्थित अपने गांव पालनार जा रहे थे।

यह भी पढ़ें : यूपी: मुख्यमंत्री का निर्देश, साढ़े 14 करोड़ गरीबों को दिया जाएगा मुफ्त राशन 

दंतेवाड़ा में डी-रेल की ट्रेन
बता दें कि बीते 21 अप्रैल की देर रात नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में पैसेंजर ट्रेन को निशाना बनाया. यहां पर नक्सलियों ने पैसेंजर ट्रेन को डिरेल (Train derail) कर दिया है. इंजन समेत एक डिब्बा डिरेल हो गया है. इससे 5-6 पैसेंजर घायल हुए हैं. नक्सली आतंक के अब तक इतिहास में पहली बार है, जब नक्सलियों ने यात्री पैसेंजर ट्रेन को निशाना बनाया है. घटना की सूचना के बाद DRG की टीम घटना स्थल के लिए रवाना हो गई है. अतिसंवेदनशील क्षेत्र होने की वजह से पुलिस सावधानी बरतते हुए कदम रख रही है. नक्सलियों ने भांसी और बचेली के बीच पैसेंजर ट्रेन को रोका. बताया जा रहा है कि वाॅकी-टॉकी लिये महिला नक्सली भी वहां पर मौजूद थी. ट्रेन को रोके हुए 45 मिनट से अधिक समय हो चुका है. ट्रेन को बीच जंगल में रोका गया है.

मिली जानकारी के मुताबिक, SI मुरली ताती गैस वाली गाड़ी में बैठकर परपा से बीजापुर आए थे। इसके बाद वह अपनी बहन से मिलने भोगामगुड़ा गए। लेकिन यहां बहन से उनकी मुलाकात नहीं हो सकी, इसलिए वह साइकिल से एक दोस्त के साथ पालनार पहुंचे। पालनार वो जगह है, जहां बीजजात्रा चल रही थी। बीजजात्रा वाले दिन ग्रामीण अपने ग्राम्य देवता की पूजा करते हैं और सुअर की बलि देते हैं। इसी के बाद खेतों में बीज डालने की अनुमति मिलती है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड : ग्लेशियर फटने के बाद लापता लोगों की तलाश जारी, अब तक 11 शव बरामद 

कहा जा रहा है कि नक्सलियों ने यहीं से मुरली को किडनैप कर लिया। नक्सली यहां पहले से ही मौजूद थे। मुरली के परिजनों ने काफी मिन्नतें कीं, लेकिन नक्सली मुरली को वहां से काफी दूर ले गए। इसके 3 दिन बाद नक्सलियों ने मुरली की हत्या कर दी।

Follow Us