Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ : शहरों में संक्रमण दर में आई गिरावट, ग्रामीण क्षेत्रों में 300 फीसद तक बढ़ी

छत्तीसगढ़ में समग्र रूप से अप्रैल की तुलना में मई के पहले सप्ताह में भले ही पाजिटिविटी दर में कमी दर्ज की गई हो, लेकिन यह गिरावट सिर्फ शहरी क्षेत्र में देखने को मिल रही हैं। अप्रैल में शहरी क्षेत्र में कोरोना का तेजी से प्रसार हुआ। शहरी क्षेत्र के अस्पतालाें में आक्सीजन बेड, वेंटिलेटर के लिए लोगों को भटकना पड़ा। उस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति नियंत्रण में नजर आई।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड : कांग्रेस ने की आपदा प्रभावितों को 10-10 लाख देने की मांग 

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों में अप्रैल के आखिरी सप्ताह से मई के पहले सप्ताह में तेजी देखने को मिल रही है। अब सर्वाधिक सक्रिय मामले रायगढ़, जांजगीर-चांपा, कोरबा, मुंगेली, कोरिया, बलौदाबाजार जैसे ग्रामीण बहुल जिलों में आ रहे हैं।

एपेडेमिक कंट्रोल के डायरेक्टर डा. सुभाष मिश्रा ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में सावधानी बरतने में कमी के कारण संक्रमण फैल रहा है। जागरूकता की कमी के कारण ग्रामीण कोरोना काे भी सामान्य बुखार मान ले रहे हैं, जिसके कारण स्थिति गंभीर हो रही है। प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र के जिले मुंगेली, सूरजपुर, बलरामपुर, जशपुर, जांजगीर-चांपा, गौरेला-पेंड्रा, बालोदाबाजार, कवर्धा, सरगुजा, कोरिया, गरियाबंद और धमतरी में पाजिटिविटी रेट बढ़ी है।

इन जिलों में एक मार्च तक संक्रमण की स्थित शून्य के करीब थी। यहां संक्रमण का प्रसार अचानक 15 अप्रैल के बाद बढ़ा है। वहीं, छत्तीसगढ़ में नौ अप्रैल से 10 मई तक के आंकड़ों को देखें तो गौरेला-पेंड्रा-मरवाही ज़िले में कोरोना के मामलों में सर्वाधिक 315.08 फीसद की बढ़ोत्तरी हुई।

मुंगेली में 263.63 फीसद, जशपुर में 200.40 फीसद, बलरामपुर में 185.10 फीसद और गरियाबंद में 178.89 फीसद तक पहुंच गया। इस दौरान सर्वाधिक शहरी आबादी वाले रायपुर में कोरोना की बढ़ोत्तरी 75.75 फ़ीसद और दुर्ग में 77.95 फ़ीसद रही।

यह भी पढ़ें : कोविड से जंग जीतने वालों की आंखों की रोशनी छीन रहा ये ब्लैक फंगस 

पांच हजार से ज्यादा मरीज आने वाले जिले

प्रदेश में औसतन पिछले दस दिन में पांच हजार से ज्यादा मरीज आने वाले दस जिलों में छह जिले ग्रामीण आबादी वाले हैं। इसमें रायगढ़, जांजगीर-चांपा, रायपुर, कोरबा, बिलासपुर, मुंगेली, राजनांदगांव, कोरिया, बलौदाबाजार और महासमुंद है।

प्रदेश में औसत पाजिटिविट दर में गिरावट दर्ज की जा रही है, जो प्रदेश के लिए सुखद संदेश है। लेकिन यह नहीं मानना चाहिए कि कोरोना खत्म हो गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में जांच की व्यवस्था को और मजबूत किया जा रहा है। साथ ही संक्रमण को रोकने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीन की गति में भी तेजी लाई जा रही है।’

Follow Us
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button