देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण राजधानी के हाल बेहाल कर रहा है, राजधानी दिल्ली के अस्पताल  बीएड और ऑक्सीजन की कमी के कारण काफ़ी समस्या झेल रहे है, और उनसे भी ज्यादा समस्या झेल रहे है दिल्ली की जनता, आप को बता दें  इन्ही सब के बीच दिल्ली में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है, दरअसल क़रीब 7 घंटे में राजधानी के पांच अस्पतालों के चक्कर लगाने के बाद भी जब कोरोना मरीज को बेड नहीं मिल सका तो एंबुलेंस (Ambulance) ने उसे बीच रास्ते में ही छोड़ दिया। 

Ambulance

यह भी पढ़े : DRDO ने मात्र पांच दिन में बनाया कोविड अस्पताल 

कई दिन से भर्ती होने के लिए लगा रहे थे चक्कर   

मरीज की पत्नी और बेटी काफी मिन्नतें करते रहे लेकिन एंबुलेंसकर्मी के अनुसार, एक ही मरीज को इतना वक्त नहीं दिया जा सकता। सुनील कुमार ने बताया कि दिल्ली के शाहपुर जाट निवासी जसपाल 14 अप्रैल को संक्रमित मिले थे। उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। बीते शनिवार दोपहर जब वे कश्मीरी गेट पर थे उस दौरान उन्होंने देखा कि एक महिला एंबुलेंसकर्मी अभय के आगे रो रही थी और मरीज एंबुलेंस में था। 

यह भी पढ़े : दिल्ली में कर्फ्यू, 1 हफ्ते के लिए रहेंगी यह पाबंदियां, घर से निकलने तो रखें ध्यान 

क्या बोले एंबुलेंसकर्मी ?

  एंबुलेंसकर्मी ने बताया कि सुबह से पांच अस्पताल के चक्कर लगा चुके हैं। संजय गांधी, जीटीबी, राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी, लोकनायक और सुल्तानपुरी स्थित कोविड केयर सेंटर में मरीज को भर्ती नहीं किया। 

Follow Us