कोरोना संक्रमण के चलते ऑल इंडिया स्तर पर होने वाली प्रवेश परीक्षा  इन परीक्षाओं में इंजीनियरिंग, मेडिकल, लॉ एवं मैनेजमेंट के साथ दूसरी प्रवेश परीक्षाएं शामिल हैं। ऑल इंडिया स्तर पर प्रवेश में देरी के चलते शैक्षिक सत्र 2021-22 पूरी तरह से प्रभावित होगा। शैक्षिक सत्र पिछड़ने पर संस्थानों को पुराने शैक्षिक सत्र की वार्षिक सेमेस्टर परीक्षाओं के लिए समय निकालना कठिन होगा। 

यह भी पढ़ें : कोरोना राहत: टैंकर लेकर लखनऊ पहुंची ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन, सुरक्षा में लगी जीआरपी 

जेईई, नीट, प्रबंधन जैसी प्रवेश परीक्षाओं का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) करता है। इसमें जेईई मेंस की दो चरण की परीक्षा पूरी हो चुकी है। जेईई मेंस तय समय पर नहीं होने की स्थिति में देश के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (एनआईटी) एवं भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थानों (ट्रिपलआईटी) जैसे संस्थानों में प्रवेश समय पर होना मुश्किल लगता है।

यह भी पढ़ें : यूपी : भाजपा विधायक सुरेश श्रीवास्तव का निधन 

जेईई मेंस की अप्रैल की परीक्षा स्थगित
नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने जेईई मेंस की 27 से 30 अप्रैल तक प्रस्तावित तीसरे चरण की परीक्षा स्थगित कर दी है। केंद्र सरकार ने सीबीएसई की दसवीं की परीक्षाओं को रद्द और बारहवीं की परीक्षा को स्थगित किया है। यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की परीक्षाएं स्थगित कर दी है। अभी नीट, जेईई मेंस की (अप्रैल एवं मई), सी-मैट, जेईई एडवांस, क्लैट, नेट, जेआरएफ सहित दूसरी परीक्षाएं होनी हैं।

Follow Us