भारत के आठ प्रमुख उद्योगों के उत्पादन में कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन के चलते अप्रैल 2020 में 38 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की गई।

आठ प्रमुख उद्योगों में कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफायनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली शामिल हैं।

भारत के इन 8 प्रमुख उद्योगों का देश के औद्योगिक उत्पादन के सूचकांक में 40.27% योगदान है।

इन उद्योगों के उत्पादन में कमी आने के कारण, देश का आर्थिक उत्पादन काफी कम रहेगा।अनुक्रमिक आधार पर आठ प्रमुख उद्योंगों का सूचकांक मार्च 2020 में नौ प्रतिशत तक नीचे चला गया।

 कोयला को छोड़कर सभी क्षेत्रों में भारी कमी

 देश में परिवहन क्षेत्र के पूरी तरह से रुक जाने के कारण पेट्रोलियम के क्षेत्र में 0.5% की कमी आई। देश में उत्पादन में अपेक्षाकृत कमी होने के कारण बिजली की मांग में 7.2% की कमी देखी गई। निर्माण क्षेत्र के पूरी तरह रुक जाने से सीमेंट उद्योग में 25% की कमी देखी गई। देश में इस्पात का उत्पादन 13% कम हुआ। केवल कोयला ही ऐसा प्रमुख क्षेत्र था जिसमें सकारात्मक वृद्धि के आंकड़े देखे गये।

औद्योगिक उत्पादन का सूचकांक

केंद्रीय सांख्यिकीय संगठन द्वारा औद्योगिक उत्पादन का सूचकांक (आईआईपी) प्रकाशित किया जाता है। यह विभिन्न औद्योगिक समूहों की वृद्धि दर को दर्शाता है। वर्ष 2011-12 को आधार वर्ष मानकर आईआईपी की गणना की जाती है।

आईआईपी संकेतक खनन, बिजली और विनिर्माण जैसे विशाल क्षेत्रों के उत्पादन को मापता है। यह उपयोग आधारित क्षेत्रों जैसेकि अर्थात् पूंजीगत वस्तुओं और मध्यवर्ती वस्तुओं और बुनियादी वस्तुओं से संबंधित क्षेत्रों के उत्पादन को भी मापता है।

Follow Us