EducationUttar Pradesh

छाप तिलक सब छीनी रे मोसे नैना मिलाय के

Zonal Fest of SRMS: जोश से सराबोर युवा। हर विधा में खुद को इक्कीस साबित करने की होड़। गीत, संगीत, पेंटिंग, नुक्कड़ नाटक जैसी 22 प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते को आतुर यह युवा एसआरएमएस कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नालाजी में जोनल फेस्टिवल में सोमवार को दिखाई दिए। सुबह दस बजे इसकी शुरूआत तेरहवीं सदी में अमीर खुसरों के लिखे भजन ‘छाप तिलक सब छीन्हीं रे मोसे नैंना…’ को स्वर देकर संगीतज्ञ डा.मंजू रानी ने की। उन्होंने इससे उद्घाटन समारोह की भव्यता का अहसास कराया और उपस्थित प्रतिभाओं को भी प्रेरित किया।
srms zf presentation
डा.एपीजेएके टेक्निकल विवि के आर्ट एंड कल्चरल का जोनल फेस्टिवल की मेजबानी इस वर्ष एसआरएमएस कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नालाजी कर रहा है। दो दिवसीय इस फेस्ट में 92 कालेजों को शामिल किया गया है। इनसे आए हुए विद्यार्थियों के बीच 22 प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं। जिसमें 13 सांस्कृतिक कार्यक्रम और आर्ट से संबंधित नौ प्रतियोगिताएं हैं। पहले दिन कार्यक्रम का उद्घाटन एसआरएमएस ट्रस्ट के चेयरमैन देवमूर्ति ने किया। मां सरस्वती की प्रतिमा पर दीप प्रज्वलन के बाद स्किट, एकल शास्त्रीय गायन, रंगोली, एकल नृत्य, कार्टून बनाना, एकल गायन, मेहंदी, समूह गायन, युगल गायन, कोलाज, फेस पेंटिंग की प्रतियोगिताएं आयोजित हुईं। पूरे दिन विभिन्न प्रतियोगिताओं में विद्यार्थियों ने अपने हुनर का प्रदर्शन किया। अव्वल आए सभी प्रतियोगियों को मंगलवार को पुरस्कृत किया जाएगा।

सीईटी के सेंटेनियल आडिटोरियम में उद्घाटन सत्र का आरंभ सरस्वती पूजन से हुआ। एसआरएमएस ट्रस्ट के चेयरमैन देवमूर्ति, शोभारानी कुदेशिया, ट्रस्ट एडमिनिस्ट्रेटर इंजीनियर सुभाष मेहरा, डीन एकेडेमिक्स डा.प्रभाकर गुप्ता, बरेली कालेज में पूर्व संगीत विभागाध्यक्ष प्रोफेसर उषा खन्ना, कस्तूरबा कन्या इंटर कालेज की असिस्टेंट प्रोफेसर डा.मंजू रानी ने मां सरस्वती की प्रतिमा पर दीप प्रज्वलित कर पुष्पार्पण किया। सरस्वती वंदना, संस्थान गीत के बाद डीएसडब्लू इंजीनियर आशीष कुमार ने अतिथियों का स्वागत किया।
srms zf
कार्यक्रम के उद्घाटन की घोषणा के बाद प्रोफेसर उषा खन्ना, डा.मंजू रानी ने सितार पर राग तोड़ी को साधा और तबले पर इनका साथ डा.भूपेंद्र कुमार ने दिया। डा.मंजू रानी ने राग भैरवी पर आधारित मोहे लागी लगन गुरु चरनन की सुना कर स्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। बरेली कालेज की संगीत विभागाध्यक्ष जयश्री मिश्रा ने राग अहिर भैरव पर आधारित मीरा के भजन तुम बिन मोही कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी सुनाकर भक्तिभाव में डुबोया। इसके बाद एक बार फिर डा.मंजू रानी ने मंच संभाला और 13वीं सदी के अमीर खुसरो की कालजयी रचना ‘छाप तिलक सब छीन्हीं रे मोसे नैंना…’ को स्वर देकर खूब तालियां बटोरीं।

इस मौके पर ट्रेनिंग डेवलपमेंट एंड प्लेसमेंट हेड डा.अनुज सक्सेना, चीफ प्राक्टर दीपेश तिवारी, आशीष कुमार, सभी प्राचार्य और बरेली के एएनए, केसीएमटी, फ्यूचर, राजश्री, आरबीआई, एसआरएमएससीईटी, एसआरएमसीईटी एंड रिसर्च, एसएसवीआईएम, एसएसवीआईटी, उत्कर्ष कालेज सहित 92वें कालेजों के आए विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: