Corona VirusDelhi

गृहमंत्री अमित शाह ने की आज सर्वदलीय बैठक लिए गए बड़े फैसले.

दिल्ली में कोरोना से बेकाबू हालात को देखते हुए. गृहमंत्री अमित शाह ने सर्वदलीय बैठक की है (सभी राजनीतिक दलों के साथ मीटिंग) बैठक में बताया गया, कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या 41 हजार के पार चली गई है. तेजी से बढ़ते कोरोना से निजात पाने के लिए गृहमंत्री की अध्यक्षता में बैठक के दौरान सभी राजनीतिक दलों से सुझाव मांगे गए हैं. इस मीटिंग में आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और भाजपा के प्रदेशस्तरीय नेता मौजूद हैं.

इस बैठक में भाजपा के अध्यक्ष आदेश कुमार ने मुख्य मांग रखी है, उनका कहना है, कि टेस्टिंग के खर्च में 50 प्रतिशत छूट दी जानी चाहिए. भाजपा की इस मांग को अमित शाह ने मंजूरी दी है. इसके साथ ही मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस ने भी तीन मांगे रखी हैं.

 

1- सभी लोगों को कोरोना जांच की सुविधा मिलनी चाहिए, यह हर आदमी का अधिकार है.

2- जो लोग संक्रमित है या कंटेनमेंट जोन में हैं उन सभी को 10 – 10 हजार रुपये दिए जाने चाहिए.

3- फोर्थ ईयर वाले मेडिकल स्टूडेंट्स से नॉन परमानेंट रेजिडेंट की तरह काम लिया जाए. हेल्थकेयर स्टाफ की कमी को देखते हुए फोर्थ ईयर वाले फार्मेसी या नर्सिंग के स्टूडेंट से काम लिया जाए.

 

सुप्रीम कोर्ट ने लाशों को कचरे के ढेर में फेकने पर किया कमेंट

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा, कि अगर किसी भी कोरोना मरीज की लाश कचरे के ढेर में मिली तो यह उनके साथ जानवरों जैसा सलूक होगा. दरअसल 14 जून के आंकड़ों के अनुसार राजधानी दिल्ली में 41 हजार 142 केस दर्ज किए गए हैं. जिसमें से 24 हजार 32 मरीजों का इलाज चल रहा है. 15 हजार 823 ठीक होकर घर जा चुके हैं वहीं 1 हजार 327 की मौत हो चुकी है. अभी तक 2 लाख 90 हजार 592 टेस्ट किए जा चुके हैं. अब करीब 5 से 7 हजार तक केस रोजाना दर्ज किए जा रहे हैं. ऐसे में एक शिकायत सामने आई है, कि कोरोना के मरीजों से बुरा बर्ताव किया जा रहा है और लाशों को कचरे के ढेर में फेक दिया जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट के इस कमेंट के बाद से अब गृहमंत्री ने मोर्चा संभाला है.

रविवार को सीएम केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल की डेढ़ घंटे चली बैठक

बता दें, कि रविवार शाम को दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल की डेढ़ घंटे चली थी. उसी शाम सभी पार्टी के मेयर और म्युनिसिपल लेवल की स्ट्रैटेजी पर बैठक हुई थी.

 

5 अहम फैसले कौन से लिए गए

1- आइसोलेशन बोर्ड में बदले गए रेलवे के 500 कोच (दिल्ली के लिए)

2- 2 दिन में कोरोना टेस्ट को दोगुना और 6 दिनों में तीन गुना बढ़ा दिया जाएगा.

3-कंटेनमेंट जोन और कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग के लिए घर में की जाएगी जांच

4- केंद्र के पांच सीनियर अफसर दिल्ली सरकार में तैनात किए जाएंगे

5-निजी अस्पताल कोरोना मरीज को रिज़र्व बेड में से 60 प्रतिशत बेड कम रेट में उपलब्ध करवाएगी.

 

जरूरी फैसले

1-कोरोना टेस्ट के रेट दोबारा तय किए जाएंगे.

2-स्काउड गाइड, एन सी सी, एन एस एस और दूसरे सेल्फ ग्रुप को हेल्थ वॉलिंटियर्स बनाया जाएगा.

3-अंतिम संस्कार की नई गाइडलाइंस जारी की जाएंगी.

4-अब दिल्ली के छोड़े अस्पतालों की मदद के लिए एम्स से एक हेल्पलाइन नंबर शुरू किया जाएगा.

 

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: