देश के साथ ही यूपी में कोरोना संक्रमण का खतरा तेजी से बढ़ता जा रहा है. यूपी में रोज आने वाले आंकड़े डरा रहे हैं. ऐसे में मध्य प्रदेश में संक्रमण न बढ़े इसके लिए राज्य सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. राज्य परिवहन आयुक्त ने गुरुवार को शाम को आदेश जारी करते हुए 7 मई तक यूपी के लिए संचालित सभी बसों की आवाजाही पर रोक लगा दी है.

यह भी पढ़ें : यूपी : कोरोना से मौत पर मुआवजा की याचिका ख़ारिज  

राज्य परिवहन आयुक्त ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि 29 अप्रैल से 7 मई 2021 तक मध्य प्रदेश राज्य की समस्त यात्री बसों का उत्तर प्रदेश राज्य की सीमा में प्रवेश व उत्तरप्रदेश राज्य की समस्त यात्री बसों का मध्य प्रदेश की सीमा में प्रवेश स्थगित रहेगा. बता दें कि मध्य प्रदेश सरकार इससे पहले महाराष्ट्र और छतीसगढ़ से भी बसों की आवाजाही पर आगामी आदेश तक रोक लगा चुकी है. इन दोनों ही राज्यों में कोरोना संक्रमण खतरनाक रूप ले चुका था, जिसको देखते हुए यह पाबंदी लागू की गई थी.

प्रयागराज के क्षेत्रीय प्रबंधक टीके एस बिसेन ने बताया कि रीजन से मध्य प्रदेश के रीवा, सीधी और सागर के लिए वर्तमान समय में नौ बसों का संचालन हो रहा है। कार्यालय परिवहन आयुक्त मध्य प्रदेश से पत्र मिलने के बाद बृहस्पतिवार से ही बसों का संचालन रोक दिया गया है। उन्होंने बताया कि अभी सात मई तक बस सेवा स्थगित रहेगी। उधर जीरो रोड के एआरएम रविंद्र सिंह ने बताया कि इस अविध में एमपी बॉर्डर तक बसों का संचालन होगा। रीवा और सीधी जाने वाली बसें चाकघाट तक एवं सागर जाने वाली बस का संचालन महोबा में एमपी बॉर्डर तक किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें : कानपुर: ऑक्सीजन प्लांट में फटा सिलेंडर, एक मजदूर की गई जान  

प्रयागराज के क्षेत्रीय प्रबंधक टीके एस बिसेन ने बताया कि रीजन से मध्य प्रदेश के रीवा, सीधी और सागर के लिए वर्तमान समय में नौ बसों का संचालन हो रहा है। कार्यालय परिवहन आयुक्त मध्य प्रदेश से पत्र मिलने के बाद बृहस्पतिवार से ही बसों का संचालन रोक दिया गया है।

उन्होंने बताया कि अभी सात मई तक बस सेवा स्थगित रहेगी। उधर जीरो रोड के एआरएम रविंद्र सिंह ने बताया कि इस अविध में एमपी बॉर्डर तक बसों का संचालन होगा। रीवा और सीधी जाने वाली बसें चाकघाट तक एवं सागर जाने वाली बस का संचालन महोबा में एमपी बॉर्डर तक किया जाएगा। 

Follow Us