ChhattisgarhGadgets & TechnologyGovernment PoliciesIndia Rise Special

अब 30 मिनट में आएगा कोरोना जांच रिजल्ट

भले ही शुरुआत में भारत ने टेस्टिंग को लेकर काफी अलग स्ट्रैटेजी अपनाई हो, लेकिन अब देखा जा रहा है कि इसे सबसे जरूरी मानकर नए-नए प्रयोग और राज्यों में लाखों टेस्टिंग किट पहुंचाए जा रहे हैं. वहीं नई तकनीकों का प्रयोग कर भी टेस्टिंग की रफ्तार और रिजल्ट में तेजी लाने की कोशिश हो रही है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 17 अप्रैल को बताया कि राज्यों को पांच लाख रैपिट एंटी बॉडी किट्स पहुंचाए गए हैं. इसके साथ ही प्लाज्मा थेरेपी को लेकर कहा गया कि इस पर अभी काम चल रहा है. बताया गया कि इमिन्युटी सिस्टम को बढ़ाने के लिए भारत के पारंपरिक इलाज की भी मदद ली जा रही है.

मंत्रालय की तरफ से बताया गया कि अब ऐसे टेस्ट किट पर काम चल रहा है, जिससे कोरोना टेस्ट का रिजल्ट 30 मिनट में मिल सकता है. इसे न्यू रैपिड एंड डायगनॉस्टिक टेस्ट कहा गया है. उन्होंने बताया कि मई तक 10 लाख रैपिड एंटी बॉडी डिटेक्शन किट्स तैयार हो जाएंगी. वहीं 10 आरटीपीसीआर किट भी अगले महीने तक तैयार होंगी.

हालांकि केरल के चित्रा इंस्टीट्यूट ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसी किट तैयार की है, जिससे 10 मिनट में रिजल्ट का पता लगाया जा सकता है. लेकिन अभी तक आईसीएमआर की तरफ से इसे हरी झंडी मिलना बाकी है.

अब हम आपको बताएंगे कि सरकार की तरफ से टेस्टिंग को लेकर नए तकनीक और कौन से नए प्रयोग किए जा रहे हैं.

प्लाज्मा थेरेपी

कोरोना के लिए एक और प्रयोग सामने आया है. जिसे कॉन्वलेसन्ट प्लाज्मा थेरेपी कहा जाता है. हालांकि ये सिर्फ उन्हीं मरीजों का होता है जिन्हें कोरोना से सबसे ज्यादा खतरा होता है और वो क्रिटिकल सिचुएशन में होते हैं. इसे कोरोना के लिए एक प्रयोगात्मक तरीका कहा गया है. इस थेरेपी के तहत COVID-19 से उबर चुके मरीज से लिया गया ब्लड प्लाज्मा नए मरीजों में इंजेक्ट किया जाता है. विशेषज्ञों का मानना है कि ठीक हो चुके मरीज में बनीं कोरोना वायरस एंटीबॉडीज नए मरीज के शरीर में जाकर वायरस को बेअसर कर सकती हैं.

 

रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट

कोरोना का कहर जिन इलाको पर सबसे ज्यादा होता है, उन्हें रेड जोन, कंटेनमेंट एरिया या फिर हॉटस्पॉट कहा जाता है. ऐसी जगहों के लिए ही रैपिड एंटीबॉडी टेस्टिंग होती है. यहां अगर लोगों में किसी भी तरह की जुकाम, हल्का बुखार या फिर खांसी की भी शिकायत है तो उनकी शुरुआती जांच की जाती है. जिसमें रियल टाइम पीसीआर से टेस्ट होता है. अगर रिपोर्ट नेगेटिव होती है तो कोरोना की संभावना काफी कम होगी. लेकिन अगर पीसीआर टेस्ट पॉजिटिव आता है तो मरीज को तुरंत आइसोलेट किया जाता है और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग शुरू हो जाती है. आसान भाषा में समझें तो ऐसे जगहों पर सबसे पहले मरीजों के गले और नाक की सूजन जैसे लक्षणों की जांच होती है. जिसके बाद एंटी बॉडी बेस्ड ब्लड टेस्ट किया जाता है.

सरकारी लैब को मिलीं रियल टाइम पीसीआर मशीन

केंद्र की तरफ से राज्य सरकारों को रियल टाइम पीसीआर मशीनें भी ज्यादा से ज्यादा पहुंचाईं जा रही हैं. रियल टाइम पीसीआर से हम डीएनए को जल्द से जल्द एम्पलिफाई कर सकते हैं. इससे कोरोना की टेस्टिंग में काफी तेजी आएगी. इसे क्वैंटेटिटिव रियल टाइम पीसीआर भी कहा जाता है. इन मशीनों को अब तक कुल 25 सरकारी लैब में भेजा जा चुका है.

 

Follow Us
Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: