कोविड मरीजों के इलाज के लिए उत्तराखंड पुलिस हर जिले और बटालियनों में प्लाज्मा बैंक तैयार करेगी। इसके लिए रविवार को हर जगह एंटी बॉडी टेस्ट के लिए कैंप आयोजित किए जा रहे हैं। इसके बाद जरूरत पड़ने पर पुलिसकर्मी अपना प्लाज्मा दान कर लोगों की जान बचाएंगे। 

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड: पूर्व कांग्रेस विधायक हेमेश खर्कवाल के कोरोना संक्रमित भाई का निधन 

डीजीपी ने कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन, कर्फ्यू में अनावश्यक रूप से घूमने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. गढ़वाल और कुमाऊं परिक्षेत्र आईजी सहित सभी जिलों के एसपी-एसएसपी को ऑक्सीजन, इंजेक्शन व दवाइयों की कालाबाजारी करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

इसके साथ ही डीजीपी अशोक कुमार ने रविवार को हर जिले, पीएसी और आईआरबी में जवानों के लिए एंटी बॉडी टेस्ट कराने के लिए कैंप आयोजित कराने के निर्देश दिए. कोरोना से ठीक होने के बाद जिन पुलिसकर्मियों में एंटी बॉडी विकसित हो गई हैं वह प्लाज्मा दान कर प्लाज्मा बैंक तैयार करेगी. ऐसा करके कोविड मरीजों के इलाज के लिए उत्तराखंड पुलिस हर जिले और बटालियनों में ऐसे प्लाज्मा बैंक बनाएगी. बढ़ेंगे बेड, जरूरत पड़ी तो आम लोग भी होंगे भर्ती जिलों की पुलिस लाइन और पीएसी में बीमार पुलिसकर्मियों के लिए बेड की व्यवस्था की गई है। इनमें अब तक 300 सामान्य और 50 ऑक्सीजन बेड की व्यवस्था हो चुकी है।

पुलिस प्रवक्ता नीलेश आनंद भरणे ने बताया कि सभी जिलों को अपने यहां पर इन बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। बेड की संख्या बढ़ने के बाद यदि बेहद जरूरी हुआ तो यहां पर पुलिसकर्मी ही नहीं बल्कि आम लोग भी भर्ती हो सकेंगे। 

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड: लगातार दूसरे वर्ष नहीं होगी कैलाश मानसरोवर यात्रा 

सख्ती बढ़ाने के निर्देश

डीजीपी ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान कहा है कि सभी जगह शहरों में सख्ती बढ़ाई जाए। निर्धारित धनराशि में ही नियमों का पालन न करने वालों का चालान काटा जाए।  जिनके पास बाहर निकलने का वाजिब कारण नहीं है उनका हर हाल में चालान किया जाए।

Follow Us