Pm addressed in UNGA


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को तीसरी बार संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA)  की 25वीं बैठक को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में से एक है। यहां विश्व की 18 % जनसंख्या सैकड़ों लोग, भाषाएं अनेकों विचारधारा है। उन्होंने अपने 22 मिनट के भाषण में कई अहम बातें कहीं जिसमें उन्होंने Covid-19 का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सबसे विश्व के बड़े वैक्सीन उत्पादक देश के तौर पर भारत पूरी दुनिया की मदद करेगा। उन्होंने कहा आज मैं वैश्विक समुदाय को आश्वासन देना चाहता हूं। भारत की वैक्सीन प्रोड्यूक्श और वैक्सीन डिलेवरी क्षमता पूरी मानवता को इस संकट से बाहर निकलने में काम आएगी। आगे उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के इस मुश्किल समय में भारत के दवा उद्योग ने 150 में अधिक देशों को जरूरी दवाएं भेजी हैं। 

 

 

 

 

यूएन के प्रयासों पर खड़े किए सवाल 

75 साल की उपलब्धि को देखें तो कई उपलब्धियां है, लेकिन कुछ गंभीर उदाहरण सोचने पर मजबूर करते हैं। तीसरा विश्व युद्ध तो नहीं हुआ, लेकिन कई युद्ध हुए गृह युद्ध हुए आतंकी हमले हुए, खून की नदियां भी बहिं। कई हमारे आपकी तरह लोग मारे गए। आज ऐसे में संयुक्त राष्ट्र के प्रयास क्या पर्याप्त थे। कोरोना के कारण दुनिया 8 9 महीनों से संघर्ष कर रहा है। इस महामारी से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र का प्रभावशाली नेतृत्व कहां था। 

 

 

 

अनुभवों को किया इस तरह साझा

पीएम मोदी ने कहा कि भारत हमेशा पूरी मानवजाति के हित के बारे में सोचता है। न कि अपने स्वार्थ के बारे में। भारत की नीतियां  इसी दर्शन से प्रेरित रही हैं। भारत जब दोस्ती का हाथ बढ़ता है तीसरे के खिलाफ नहीं होता। भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूत करने की सोच नहीं होती है। हम अपनी विकास यात्रा को साझा करने से पीछे नहीं रहते हैं। 

नागरिकों के जीवन में बदलाव

रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म के मंत्र के साथ भारत के नागरिकों के जीवन में बदलाव का काम किया है। 4 से 5 साल में 600 मिलियन हजार मिलियन लोगों को खुले में शौच से मुक्त करवाना 400 मिलियन लोगों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा है फिर 2 से 3 साल में 500 मिलियन से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज से जोड़ा यह आसान नहीं था। लेकिन हमने कर दिखाया। 

 

 

भारत पर लगाए आरोप 

UNGA में शुक्रवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की स्पीच हुई थी। इस दौरान उन्होंने वहां भारत की जमकर आलोचना ही। उन्होंने RSS पर आरोप लगाया कि वह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने में जुटा रहता है। यह भी आरोप लगाया कि बाबरी मस्जिद को ढहाया गया, 2002 के गुजरात दंगों में मुस्लिमों को मारा गया। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने को भी उन्होंने गलत बताया। जिस वक्त इमरान बोल रहे थे उस समय यूएन के असेंबली हॉल में मौजूद भारतीय विदेश सेवा के 2010 बैच के अफसर मिजितो विनितो उठकर बाहर चले गए।

Follow Us