‘भय से मुक्त रहें क्योंकि भय सबसे बड़ा पाप है. मन को हमेशा प्रसन्न रखो. मृत्यु तो अपरिहार्य है, उससे…