एक नहीं दो-दो मात्राएं हैं, नर से भारी नारी, ये लिखी गईं कहावतें कभी फीकी नहीं पड़ी, सतयुग से कलयुग…