हवा के सींग न पकड़ों खदेड़ देती है, ज़मीं से पेड़ों के टांके उधेड़ देती है। कल्पना की ऐसी विचित्रता…