२३ मई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश स्टार्टअप फंड का शुभारंभ किया और भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक को 15 करोड़ की प्रथम किस्त सौंपी।

उत्तर प्रदेश सरकार ने यह भी घोषणा की है की ‘स्टार्टअप्स’ को युवाओं को उद्यमिता के लिए प्रोत्साहित करने के लिए स्थानीय कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में एक विषय के रूप में शामिल किया जाएगा जिस से की प्रदेश के नौजवानो को प्रेरणा मिलेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ युवाओं को नौकरी देने वाले बनाना चाहते हैं न कि सिर्फ नौकरी करने वाले।

यूपी सरकार का लक्ष्य है कि अधिक रोजगार सृजित करने के लिए यूपी के स्टार्टअप इकोसिस्टम को बढ़ावा दिया जाए, क्युकी कई प्रवासी मज़दूर कोविद -19 महामारी के कारण अपनी नौकरी गंवाने के बाद राज्य को लौट चुके है ।

 

फरवरी 2020 में प्रकाशित मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, यूपी सरकार अगले साल तक शीर्ष तीन घरेलू रैंकिंग में प्रवेश करने के लिए एक नई “स्टार्टअप नीति 2020” जारी करने का सोच रही थी।

यह स्टार्टअप और नए व्यावसायिक उपक्रमों को बढ़ावा देने के लिए एवं शैक्षिक और तकनीकी संस्थानों के साथ गठजोड़ करने के लिए सभी 75 जिलों में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने के लिए भी सोचा है।

 

स्वप्निल अग्रवाल

Follow Us