आत्म निर्भर भारत की चर्चा के बीच हैदराबाद के एक स्टार्टअप ने एयरोस्पेस के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि हासिल की है।भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के अलावा भारत में अब निजी क्षेत्र भी अंतरिक्ष के क्षेत्र में सफलता से कदम आगे बढ़ा रहा है। हैदराबाद स्थित स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस ने ऊपरी चरण के रॉकेट इंजन ‘रमण’ का यहां सफल परीक्षण किया।

skyroot aerospace company in india to successfully test launch a home grown rocket engine

 

भारतीय वैज्ञानिक के नाम पर रखा गया इंजन का नाम रमण

हैदराबाद स्थित एक स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस ने ऊपरी चरण के रॉकेट इंजन का हैदराबाद में सफल परीक्षण किया है। सूत्रों के मुताबिक इस रॉकेट इंजन का नाम प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक के नाम पर ‘रमण’ रखा गया है। Skyroot Aerospace ने बताया कि यह इंजन कई उपग्रहों को एक ही बार में अलग-अलग आर्बिट में स्थापित कर सकता है। स्काईरूट के सह-संस्थापक पवन कुमार चंदाना ने बताया कि हमने भारत के पहले सौ फीसद थ्री डी-प्रिंटेड बाय-प्रोपेलेंट तरल रॉकेट इंजन इंजेक्टर का परीक्षण किया।

 

इसरो की स्टार्टअप कम्पनी हैं स्काईरूट एयरोस्पेस

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (Indian Space Research Organisation, ISRO) के पूर्व वैज्ञानिकों द्वारा यह स्टार्टअप स्थापित किया गया है और स्काईरूट स्टार्टअप भारत का पहला निजी अंतरिक्ष प्रक्षेपण यान भी बना रहा है। परीक्षण से पहले स्टार्टअप कंपनी ने इस रॉकेट के बारे में बहुत गोपनीयता बरती थी। पवन कुमार चंदाना ने बताया कि पारंपरिक विनिर्माण की तुलना में इस राकेट के इंजन कुल भार 50 फीसद कम है। इस रॉकेट में कुल उपकरणों की संख्या भी कम है और इसका लीड टाइम 80 फीसद ज्‍यादा है।

 

कई बार चालू किया जा सकता है रॉकेट के इंजन

स्काईरूट से जुड़े अंतरिक्ष वैज्ञानिकों का दावा है कि इस रॉकेट का इंजन कई बार चालू हो सकता है। इसी खासियत के कारण यह एक ही मिशन में कई उपग्रहों को कई अलग-अलग कक्षाओं में स्थापित करने में सक्षम है। चंदाना ने बताया कि कंपनी के दो रॉकेट अगले 6 माह में प्रक्षेपण के लिए तैयार हो जाएंगे। यह स्टार्टअप ने अब तक 31.5 करोड़ रुपए जुटा लिए हैं और साल 2021 से पहले इसका लक्ष्‍य 90 करोड़ रुपए जुटाने का है।

 

दिसम्बर 2021 में लॉंचिंग का लक्ष्य

स्काईरूट के फाउंडर एवं चीफ ऑपरेटिंग अधिकारी नागा भारत ने बताया कि रॉकेट की लांचिंग का सॉफ्टवेयर हमने खुद विकसित किया। कंपनी अब दिसंबर 2021 में अपनी पहली लॉन्चिंग को लेकर तैयारियां कर रही है। कंपनी ने अपने पहला लॉन्च व्हीकल का नाम विक्रम-1 रखा है। इसकी लॉन्‍चिंग के लिए दिसंबर 2021 का लक्ष्‍य रखा गया है।

Follow Us